Patrika Hindi News

सभी पार्टियों में मुस्लिम वोट बैंक के ठेकेदारों की कटिंग शुरू

Updated: IST Muslim Personal law Board
नसीमुददीन सिद्दीकी के सारे प्रभार ले लिए जाने के बाद नए मुस्लिम नेता की तलाश की जा रही है। वहीं खबर है कि कांग्रेस और समाजवादी पार्टी भी अपने अपने उन मुस्लिम नेताओं के पर काटने की तैयारी में जिन्होंने लम्बे लम्बे वादे करके चुनाव में जीत के दावे किए थे।

लखनऊ। यूपी उतराखंड के विधानसभा चुनाव के बाद अब राजनीतिक दलों ने अपनी समीक्षा करनी शुरू कर दी है। समीक्षा में सबसे ज्यादा मार उन लोगों पर गिर रही है जिन्होंने मुस्लिम वोट दिलाने का ठेका लिया था। अब उनकी कटिंग की जा रही है। शुरूआत बसपा ने नसीमुद्दीन सिद्दीकी से की है। अभी और बडे़ नेताओं की बारी है। सपा और कांग्रेस भी अपने मुस्लिम नेताओं के पर कतरने की तैयारी में है।
दूसरी ओर बसपा सुप्रीमो जो हमेषा परिवारवाद के मुद्दे पर हमलावर रहती थीं अब उन्होंनेे अपने भाई आनंद कुमार को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाने के बाद उनके बेटे आकाश को भी पार्टी में महत्वपूर्ण जगह दे दी है। इसी के साथे यह भी तय हो गया है कि मायावती ने ने आफटर माया के लिए नया रास्ता खोल दिया है। मायावती ने बीएसपी पदाधिकारियों, विधायकों और हारे हुए प्रत्याशियों की बैठक में बुधवार को आकाश को खुद बुलाकर मंच से सबसे परिचय करवाया।
बसपा की बैठक में आनंद कुमार और उनके बेटे आकाश को पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्र मंच पर लेकर आए। सतीश चंद्र मिश्र एक लम्बे समय से बसपा में ब्राह्मण मतों को एक जुट करने के लिए उपयोग में लाए जाते हैं। आकाश के बारे में मंच से ही मायावती ने बताया कि आकाश लंदन से एमबीए करके आया है और अब वह पार्टी के मेनेजमेंट का काम सीखेगा। हम यह बताते चलें कि कांशीराम की दुहाई देकर मायावती कह चुकी हैं कि परिवार का कोई सदस्य उनका वारिस नहीं होगा। अब आनंद और आकाश की इंट्ी को लोग विरासत के रूप में ही देख रहे हैं।
इधर बसपा में नसीमुददीन सिद्दीकी के सारे प्रभार ले लिए जाने के बाद नए मुस्लिम नेता की तलाश की जा रही है। वहीं खबर है कि कांग्रेस और समाजवादी पार्टी भी अपने अपने उन मुस्लिम नेताओं के पर काटने की तैयारी में जिन्होंने लम्बे लम्बे वादे करके चुनाव में जीत के दावे किए थे।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???