Patrika Hindi News
UP Election 2017

लोहड़ी पर हैं ख़ास पुष्य नक्षत्र, बदल सकती हैं क़िस्मत !

Updated: IST Lohri 2017
आज़ करें यह उपाय

लखनऊ , हमारा देश विभिन्न संस्कृति का देश हैं हर रोज़ यहाँ पर कोई ना कोई व्रत या पर्व होता हैं । जब साल नया हो तो सौगाते क्यों नहीं। जी हाँ राजधानी वासी जहां नए साल के जश्न में डूबे हैं वही शहर वासियों को अलग - अलग विभागों की ओर से सौगातें मिलने जा रही हैं। चारों तरफ खुशियां ही खुशियां दिख रही हैं । जनवरी शुरू होते ही नए साल की खुशियां होती है उसके बाद सारे त्यौहारो की एक झर लग जाती हैं जिसमे हिंदी महीने की शुरुआत खिचड़ी से होती हैं ।

खिचड़ी से ही नए वर्ष का प्रारम्भ भी होता हैं । उससे पहले पंजाबियों की लोहड़ी आती हैं जिसे बहुत ही धूम धाम से मनाया जाता हैं । इसमें वह नए धान , मक्के के फुले , आग के चारों ओर घूमकर अग्नि देव को अर्पित करते हैं । लोहड़ी पंजाब के अलावा हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और जम्मू-कश्मीर, में बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता हैं सर्दियों में पड़ने वाले इस पर्व पर दिन छोटा और रात लम्बी होती हैं । लेकिन यह एक मान्यता हैं ।

पंडित शक्ति मिश्रा ने बताया की 13 जनवरी को 'पुष्य नक्षत्र'

हमारे शास्त्रों के अनुसार आज यानि की 13 जनवरी लोहड़ी के इस ख़ास अवसर पर पुष्य नक्षत्र पड़ रहा हैं इस शुभ नक्षत्र में ख़रीदारी करने से बहुत लाभ मिलता हैं । पंडित मिश्रा ने बतायाकि शुक्रवार को 27 नक्षत्र में आठवां नक्षत्र जो हैं वो पुष्य हैं । पुष्य का मतलब होता हैं पोषण करने वाली ऊर्जा व शक्ति देने वाला नक्षत्र । जो हमारे जीवन पर बहुत गहरा असर डालता हैं और हमारे जीवन में आने वाली दिक्कतों को भी दूर करता हैं । नक्षत्रों का मुखिया पुष्य सभी नक्षत्रों में सर्वोच्च स्थान पर होता हैं । कहते हैं कि नक्षत्र में किसी भी प्रकार का किया गया कार्य शुभ फल का दायक होता हैं । जैसे कि कोई भी ख़रीदारी , पूजा करना , इस नक्षत्र में पूजा करने से आप जिस भी देवता की उपासना करते हो उन तक आप की बात सीधे पहुचती हैं ।

अशुभ फ़ल की भी प्राप्ति होती हैं ।

पंडित शक्ति मिश्रा ने कहाकि इस नक्षत्र में कई ऐसे अशुभ फलो की भी प्राप्ति होती हैं । जिससे हमारे जीवन पर असर पड़ता हैं इसलिए इस नक्षत्र में कोई भी काम अगर करे तो एक बार किसी विद्वान पंडित से सलाह जरूर ले ।

माता लक्ष्मी की पूजा का ख़ास प्रावधान

इस नक्षत्र में माता लक्ष्मी की पूजा करनी चाहिए । जिससे आप के जीवन में पैसो की दिक्कत न आ सके ।

माता लक्ष्मी के 108 बार जप करना चाहिए । इससे बहुत लाभ होता है ।

शुभ मुहूर्त

पंडित शक्ति मिश्रा ने बतायाकि लोहड़ी की पूजा करने का सही समय शाम को 5:50 बजे से 6:18 बजे तक और रात 8 बजे से 8.30 बजे तक रहेगा । लेकिन यह खुशियों का पर्व हैं । लोग पूरी रात धमाल करते हैं ।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???