Patrika Hindi News

SC के राष्ट्रगान के फैसले पर क्या रहा लखनऊ वाइट्स का रिएक्शन

Updated: IST cinema hall
राष्ट्रगान बजते समय सिनेमाहॉल के पर्दे पर राष्ट्रीय ध्वज दिखाया जाना भी अनिवार्य होगा और सिनेमाघर में मौजूद सभी लोगों को राष्ट्रीय गान के सम्मान में खड़ा होना होगा।

लखनऊ। सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को अपने एक राष्ट्र्गान से जुड़े एक अहम् फैसले में कहा कि देश के सभी सिनेमाघरों में फिल्म शुरू होने से पहले राष्ट्रगान ज़रूर बजेगा। साथ ही राष्ट्रगान बजते समय सिनेमाहॉल के पर्दे पर राष्ट्रीय ध्वज दिखाया जाना भी अनिवार्य होगा और सिनेमाघर में मौजूद सभी लोगों को राष्ट्रीय गान के सम्मान में खड़ा होना होगा। आइये इस फैसले पर जानते हैं लखनऊवाइट्स की राय :

- वेव सिनेमा के एजीएम ब्रजेश सोनी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला है, इसे लागू करना अनिवार्य है लेकिन सिनेमा हॉल में छोटे बच्चे, बूढ़े सभी तरह के लोग आते हैं। इसलिए हाल में मौजूद हर व्यक्ति को राष्ट्र्गान के समय खड़ा करने में कुछ दिक्कतें जरूर आयेंगी।

- चौक निवासी स्टूडेंट देवेंद्र श्रीवास्तव ने कहा कि इस फैसले से मारपीट की नौबत आ सकती है। कही आप सिनेमाघर में राष्ट्रगान के वक्त नहीं खड़े हुए तो पड़ोस में खड़ा शख्स आपके खिलाफ मुकदमा दर्ज करा सकता है और आप जेल भी जा सकते हैं।

- लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र अजीत प्रताप सिंह का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का निर्णय अच्छा है। हर व्यक्ति को ये निर्णय मानना चाहिए।

- नॉवेल्टी सिनेमा के जनरल मैनेजर राजेश ने कहा कि आज से 25 साल पहले सिनेमाहालों में फिल्म ख़त्म होने के बाद राष्ट्रगान दिखाया जाता था। धीरे-धीरे ये प्रक्रिया बंद हो गयी। अब सुप्रीम कोर्ट ने निर्णय दिया है तो इसे लागू किया जाएगा और अच्छा निर्णय है।

- इंद्रानगर के राहुल पांडेय का कहना है कि फैसला सही है, फिल्म अगर बोरिंग भी हुई तो स्टार्टिंग तो धांसू होगी।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???