Patrika Hindi News

उमा भारती ने इस विधायक को मंत्री बनाने का किया था वादा, मंत्रिमंडल में नहीं मिली जगह

Updated: IST uma bharti
उत्तर प्रदेश में नई सरकार ने अपना आकार ले लिया है। योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में नई कैबिनेट के गठन में क्षेत्रीय और जातीय संतुलन को बनाये रखने का भी बखूबी प्रयास हुआ है। इन सबके बावजूद कई क्षेत्र उपेक्षित रह गए और कई बड़े नेताओं के चुनावी वायदे पूरा नहीं हो सके।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में नई सरकार ने अपना आकार ले लिया है। योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में नई कैबिनेट के गठन में क्षेत्रीय और जातीय संतुलन को बनाये रखने का भी बखूबी प्रयास हुआ है। इन सबके बावजूद कई क्षेत्र उपेक्षित रह गए और कई बड़े नेताओं के चुनावी वायदे पूरा नहीं हो सके। बुंदेलखंड की झाँसी सदर विधान सभा सीट से भाजपा प्रत्याशी रवि शर्मा को मंत्री बनाये जाने का वादा झाँसी की सांसद और केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कई चुनावी जनसभाओं में किया था। मंत्रिमंडल में रवि शर्मा को जगह न मिलने से उनके समर्थकों में निराशा है।

क्यों महत्वपूर्ण थी झाँसी सदर सीट

झाँसी सदर सीट भाजपा के लिए काफी महत्वपूर्ण रही है। साल 2012 में हुए विधान सभा चुनाव में बुंदेलखंड की 19 में से 2 पर भाजपा को जीत मिली थी। महोबा के चरखारी से उमा भारती और झाँसी के सदर से रवि शर्मा विधायक चुने गए थे। इसके बाद साल 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में उमा भारती झाँसी लोकसभा सीट से सांसद बन गई और बुंदेलखंड में रवि शर्मा अकेले भाजपा के विधायक बनकर भगवा झंडा थामे थे। इस साल के चुनाव अभियान के दौरान उमा भारती ने इसी बात को ध्यान में रखते हुए जनसभाओं में लोगों से अपील की थी कि जनता रवि शर्मा को विधायक बनवाएं, वे उन्हें मंत्री बनवाएंगी।

क्यों नहीं बन सके मंत्री

राजनीति के जानकर मानते हैं कि मंत्री पद के लिए रवि शर्मा की दावेदारी बुंदेलखंड के बेहद मजबूत थी लेकिन भाजपा को मिले बड़े जनमत ने रवि शर्मा की राह मुश्किल कर दी। भाजपा के कद्दावर नेताओं के बीच सामंजस्य बिठाने की कोशिश में रवि शर्मा को साइडलाइन होना पड़ा। हालाँकि रवि के समर्थकों को अभी भी उम्मीद है कि पार्टी अगले मंत्रिमंडल में रवि शर्मा को प्रतिनिधित्व का मौक़ा देगी लेकिन फिलहाल उनके हिस्से निराशा ही हाथ आई है।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???