Patrika Hindi News

इन मुद्दों पर अखिलेश रहें हैं नाकाम, सीएम बनना नहीं होगा आसान

Updated: IST Akhilesh yadav
ये मुद्दे अखिलेश की राह में है सबसे बड़ा रोडा, रोक सकता है सीएम बनने से

लखनऊ.11 फरवरी 2017 से उत्तरप्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं। सत्ता के सिंहासन पर बैठने के लिए हर पार्टी बेताब है। इस दौरान अखिलेश यादव सरकार ने जहां प्रदेश को तरक्की के रास्ते पर ले जाने के कई अच्छे प्रयास किये वहीं कानून-व्यवस्था इस पूरी अवधि में बड़ा सवाल बनी रही।चुनावी साल में सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती अपने घोषणापत्र के वे जटिल वादे पूरे करने की होगी। इन सबके बीच मौजूदा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव अपने काम-काज और नीतियों के दम पर लोगों को कितना अकर्षित कर पाए ये तो वक्त बताएगा। पर इन कामों को देकर आप यहीं कहेंगे कि अखिलेश अपने वादों पर खरे नहीं उतर पाए है। आइए डालते है एक नजर

मुजफ्फरनगर दंगे से निपटने के लिए अखिलेश सरकार रही नाकाम

यूपी की अखिलेश सरकार मुजफ्फरनगर दंगों के बाद के हालात से निपटने में बुरी तरह नाकाम रही। दंगे भड़काने के आरोपी विधायक खुलेआम सरकार को चुनौती देते घूम रहे हैं। लेकिन सरकार है कि उन्हें गिरफ्तार करने की हिम्मत नहीं जुटा पा रही। इन दंगों में 62 लोग मारे गए थे। जिस वक्त हजारों लोग विस्थापित होकर टेंट में रह रहे थे, अखिलेश सैफई में सलमान खान का डांस देख रहे थे।

अखिलेश सरकार पर ये भी इल्जाम है कि दंगों के दौरान पुलिस अफसरों के काम में दखल दी गई। अखिलेश सरकार पहले ही दंगों के मामले में बदनाम है। बता दें कि 2012 में यूपी में कुल 227 दंगे हुए। 2013 में 247। 2014 में 242। 2015 में 219। वहीं 2016 में भी 100 के ऊपर हो चुके हैं। केंद्रीय गृहमंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक यूपी में अखिलेश सरकार के दौरान 100 से अधिक दंगे हुए हैं। लेकिन मुजफ्फरनगर दंगों ने तो अखिलेश को पूरी तरह विफल साबित किया है।

मथुरा जवाहर कांड

विकासवादी अखिलेश सरकार पर बिगड़ी कानून व्यवस्था किसी बदनुमे दाग से कम नहीं है। अखिलेश सरकार के पूरे कार्यकाल के दौरान अपराधी इस कदर बेलगाम रहे कि खाकी उनका शिकार हर दिन बनती रही। मथुरा का जवाहरबाग कांड इस बात की सबसे बड़ी मिसाल है।

280 एकड़ में फैले जवाहरबाग की सरकारी जमीन पर अतिक्रमण हटाने गई पुलिस टीम पर रामवृक्ष व उसके साथियों ने हमला कर दिया एसपी और एसएचओ मारे गये। 23 पुलिसवाले अस्पताल में भर्ती हुए। जवाहरबाग में रामवृक्ष यादव ने कब्जा जमा रखा था और वहां उसने अपनी पूरी सेना बना रखी थी। लेकिन पुलिस और प्रशासन को इसकी भनक तक नहीं लगी। ये पुलिस और प्रशासन के साथ -साथ स्वयं मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की भी नाकामी थी। कहा जाता है कि रामवृक्ष को सपा के शीर्ष नेताओं का आशीर्वाद प्राप्त था, क्योंकि बिना उसके इतनी बड़ी घटना नहीं हो सकती। ऐसे में सवाल ये है कि सरकार क्या कर रही थी इतने दिन तक? किसने उसे प्रश्रय दिया था?क्या सरकार अनजान थी? तब तो ये और ज्यादा खतरनाक हो जाएगा? क्या अखिलेश को इसके बारे में पता नहीं था? सरकार के पूरे कार्यकाल के दौरान पिटती रही और मुख्यमंत्री सिर्फ सफाई ही देते रहे।

अखिलेश राज में ज्यादा गुंडागर्दी

समाजवादी पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं की बेलगाम गुंडागर्दी और गिरती कानून व्यवस्था उनकी बड़ी नाकामी के रूप में देखी जा सकती है। अखिलेश यादव के शपथ ग्रहण के दिन से ही पार्टी कार्यकर्ताओ की गुंडागर्दी शुरू हो गई थी। जवाहरबाग की घटना तो अभी हाल की ही है। 2016 के बुलंदशहर हाइवे गैंगरेप कांड जैसी कई घटनाएं अखिलेश सरकार की कानून व्‍यवस्‍था पर सवाल उठाने के लिए काफी हैं। समाजवादी पार्टी के नेताओं और कार्यकर्ताओं की बेलगाम गुंडागर्दी और गिरती कानून व्यवस्था उनकी बड़ी नाकामी के रूप में देखी जा सकती है। याद कीजिए अखिलेश यादव के शपथ ग्रहण के दिन से ही पार्टी कार्यकर्ताओ की गुंडागर्दी शुरू हो गई थी। जवाहरबाग की घटना तो अभी हाल की ही है। 2016 के बुलंदशहर हाइवे गैंगरेप कांड जैसी कई घटनाएं अखिलेश सरकार की कानून व्‍यवस्‍था पर सवाल उठाने के लिए काफी हैं।

इन आधे-अधूरे कार्यों पर उठे सवाल

-अंतरराष्ट्रीय स्टेडियम का काम अभी तक नहीं पूरा हो पाया है।
-जे पी मेमोरियल इंटरनेशनल भवन के निर्माण कार्य पूरा होने में अभी महीनों लगेगें।
-मेट्रो को झंडी दिखाई लेकिन तमाम स्टेशनों पर काम अब भी अधूरा है।
-गोमती रिवर फ्रंट के बड़े हिस्से पर निर्माण कार्य उद्धघाटन के बाद जारी है।
-आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे - उद्धघाटन के बाद भी सर्विस लेन, साइन बोर्ड जैसे कई जरूरी कार्य बाकी हैं।

इन सवाल से जाहिर है कि अखिलेश सरकार अपनी नाकामियों के चलते सवालों के घेरे में है। इस खबर से हमारा आशय किसी को ठेस पहुंचाना नहीं है। एेसे कई महत्पूर्ण कार्य है जो अखिलेश राज में हुए है। जिसका फायदा हर तबके के लोग उठा रहे है अौर आगे भी उठाते रहेंगे।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???