Patrika Hindi News

Twitter Icon राम मंदिर निर्माण पर सीएम योगी का आया बड़ा बयान

Updated: IST yogi ram mandir
अयोध्या में मंदिर निर्माण की वकालत करने वाले आदित्यनाथ योगी के यूपी की कमान संभालते ही इस प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम पहल की है

लखनऊ. अयोध्या में मंदिर निर्माण की वकालत करने वाले आदित्यनाथ योगी के यूपी की कमान संभालते ही इस प्रकरण पर सुप्रीम कोर्ट ने अहम पहल की है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि इस विवाद का हल आपसी सहमति से हो, जरूरत पड़ने पर ही वह इस मसले पर दखल देगा। वहीं सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर प्रतिक्रिया देते हुए यूपी के सीएम आदित्यनाथ योगी ने कहा कि वे सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का सम्मान करते हैं। इस मामले में दोनों पक्षों को आगे आकर इस विवाद के शांतिपूर्ण हल पर चर्चा करनी चाहिए।

ओवैसी ने जताई सहमति

मामले में फैसला आने के बाद एआईएमआईएम नेता असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट किया कि मुझे उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट अवमानना याचिका पर भी फैसला सुनाएगा, जो 1992 में बाबरी मस्जिद ढहाए जाने के समय से लंबित है। इसके अलावा कई अन्य मुस्लिम धर्मगुरुओं ने कहा है कि वे मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले को स्वीकार करेंगे।

क्या कहा सुप्रीम कोर्ट ने

सुप्रीम कोर्ट ने राम-मंदिर विवाद पर कहा है कि ये मुद्दा दोनों पक्षों को आपसी सहमति से सुलझाना चाहिए। इसके अलावा ज़रूरत पड़ने पर कोर्ट दख़ल देगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अयोध्या विवाद सुलझाने के लिए अन्य विकल्पों पर भी विचार कर सकता है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि इस मामले में किसी जज को मध्यस्थ के रूप में नियुक्त कर सकता है। बताते चलें कि इलाहबाद हाईकोर्ट ने अयोध्या में विवादित ज़मीन को राम जन्मभूमि माना था। हाईकोर्ट ने ज़मीन को रामलला, निर्मोही अखाड़ा, सुन्नी बोर्ड को देने को कहा था।

आउट ऑफ कोर्ट सेटलमेंट मंजूर नहीं है: जफरयाब जिलानी

वहींबाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी के संयोजक और बाबरी मस्जिद के लिए केस लड़ रहे वकील जफरयाब जिलानी ने कहा कि हम माननीय सुप्रीम कोर्ट के इस सुझाव का स्वागत करते हैं, लेकिन हमें कोई आउट ऑफ कोर्ट सेटलमेंट मंजूर नहीं है. पात्रा ने कहा कि पार्टी इस पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी का व्यापक अध्ययन करेगी और संबंधित पक्ष इसको मिलकर सुलझाएंगे.

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???