Patrika Hindi News
UP Scam

यूपी के मुद्दे: जो देगा रोजगार उसे देंगे वोट

Updated: IST voter
यूपी में यह हैं युवाओं के मु्द्दे। आगामी विधानसभा चुनाव के लिए सभी दलों ने अपनी तैयारी तेज कर ली हैं।

लखनऊ. आगामी विधानसभा चुनाव के लिए सभी दलों ने अपनी तैयारी तेज कर ली हैं। वोटर्स को लुभाने के लिए कोई भी पार्टी कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती। यूपी में वोटरों की संख्या 13.85 करोड़ से बढ़कर अब 14.12 करोड़ हो गई है। खास बात यह है कि वोटर लिस्ट में महिलाओं और युवाओं की भागीदारी काफी बेहतर हुई है। इसका सीधा असर चुनाव के ट्रेंड व पार्टियों की सियासी रणनीति पर पड़ेगा। आगामी चुनाव में युवा किन मुद्दों को ध्यान में रखते हुए वोट देंगे इसको जानने की कोशिश की हमने-

शिक्षा का व्यवसायीकरण रुके

लखनऊ यूनिवर्सिटी के एमए (पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन) के छात्र सूर्य प्रकाश की मानें तो शिक्षा का व्यवसायीकरण सबसे अहम मुद्दा है। सूबे में अखिलेश सरकार आई थी तो वादा किया था कि शिक्षा का व्यवसायीकरण रोकेंगे लेकिन पांच साल में नहीं रोक पाए। केंद्र में बीजेपी भी यही वादा करती रही है लेकिन ऐसा होता दिखाई नहीं दे रहा। ऐसे में युवा इन दोनों पार्टियों के अलावा किसी और की ओर रुख कर सकते हैं।

बढ़ें रोजगार के चांस

आशियाना के रहने वाले एमबीए स्टूडेंट देवेंद्र श्रीवास्तव का कहना है कि जो पार्टी रोजगार देगी उसी को वोट देंगे। उनके मुताबिक अखिलेश यादव ने कई नई कंपनियों को यूपी में प्रोजेक्ट शुरू करने का मौका दिया है लेकिन यह मौका केवल एनसीआर क्षेत्र में है। उन्हें पूर्वी उत्तर प्रदेश की ओर फोकस करना चाहिए था जहां निजी कंपनियां बहुत ही कम हैं। वहीं बीटेक सौम्या श्रीवास्तव का कहना है कि आईटी सिटी अगर लखनऊ में ठीक तरह से बन जाता है तो कई इंजीनियरिंग के छात्र अखिलेश यादव को वोट करेंगे।

खत्म हो डर का माहौल

एलयू में फिलॉस्पी की स्टूडेंट पूजा शुक्ला की मानें तो महिला सुरक्षा भी अहम मुद्दा है। प्रदेश की कानून व्यवस्था लचर है। लड़कियां स्कूल-कॉलेज जानें में कई बार डरती हैं क्योंकि रास्ते में कई मनचले उन्हें परेशान करते हैं। मौजूदा यूपी सरकार क्राइम कम करने में नाकामयाब साबित हुई है। ऐसे में लड़कियां किसी और पार्टी को वोट दे सकती हैं।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???