Patrika Hindi News

झोलाछाप डॉक्टर के क्लिनिक के पीछे मिला 30 फिट गहरा भ्रूणों का कब्रगाह कुआं!

Updated: IST found cemetery of fetus
ईएस क्लिनिक में बड़े पैमाने पर लिंग परीक्षण और गर्भपात कराए जाने की बात पहले ही उजागर हो चुकी है, अब क्लिनिक के पीछे 30 गुणा 30 फीट की जमीन और गहरे कुएं में भू्रण दफ्न किए जाने की आशंका जताई जा रही है

महासमुंद. झलप में 15 साल से अवैध रूप से संचालित ईएस क्लिनिक में बड़े पैमाने पर लिंग परीक्षण और गर्भपात कराए जाने की बात पहले ही उजागर हो चुकी है, अब क्लिनिक के पीछे 30 गुणा 30 फीट की जमीन और गहरे कुएं में भू्रण दफ्न किए जाने की आशंका जताई जा रही है।

बीएमओ डॉ. विपिन राय, ड्रग कंट्रोलर तृप्ति जैन, अखिलेश पांडे, आरआई खोमन धु्रव, पटवारी दीपक विश्वकर्मा और पुलिस की टीम ने बुधवार शाम को क्लिनिक की सील खोलकर दोबारा पड़ताल की। क्लिनिक के पीछे की ओर खाली जमीन पर सीमेंट कंक्रीट से बना एक टैंक पाया गया, जो लिंग परीक्षण और गर्भपात में इस्तेमाल हुए मेडिकल सामान से भरा है। 25 नवंबर को पड़े छापे के बाद इसे आनन-फानन में जलाए जाने का प्रयास भी हुआ है। टैंक में ये कचरे अधजले हालत में पाए गए। जांच टीम ने कुछ को बाहर निकालकर देखा तो सर्जिकल ग्लब्स, कैथेटर, सर्जिकल ब्लैड, प्रेग्नेंसी किट और गर्भपात की दवाएं, खाली रेपर, ड्रिप सेट आदि थे।

वहीं खाली जमीन पर नई मिट्टी पाटकर ताजा पाटे गए भू्रणों को छिपाने का प्रयास किया गया है। आशंका है कि गहरे कुएं में भी भू्रण डाले जाते रहे होंगे। क्लिनिक से भू्रण की धड़कन सुनने की मशीन भी जब्त की गई है। संदेह है यह क्लिनिक संचालक सोनोग्राफी कर लिंग परीक्षण करता था, गर्भ के भीतर पल रहे भ्रूण की धड़कनों को सुनता था और बड़ी निर्दयतापूर्वक गर्भ में उसकी हत्या कर, बाहर निकालकर क्लिनिक के कुएं फेंक देता था या जमीन में दफ्न कर देता था। इस मामले में गहन जांच की जरूरत है। बहरहाल एलोपैथिक सामान की जब्ती बनाई गई। वहीं भारी मात्रा में शराब की खाली बोतलें बरामद की गई हैं।

क्लीनिक संचालक पर जुर्म दर्ज
झलप में अवैध रूप से क्लिनिक खोलकर बिना लाइसेंस सोनोग्राफी करते हुए लिंग परीक्षण और गर्भपात करने वाले आरोपी संतोष कुमार श्रीवास्तव के खिलाफ बीएमओ की रिपोर्ट पर पुलिस ने जुर्म दर्ज कर लिया है। गत 25 नवंबर को पड़े छापे में संतोष कुमार श्रीवास्तव की उक्त ईएस क्लिनिक से सोनोग्राफी, एबॉर्शन किट, सर्जिकल ब्लेड, गर्भपात की दवाएं, एसीजी, ऑक्सीजन सिलेंडर, शराब की बोतलें और भारी मात्रा में एलोपैथिक, होमियोपैथिक और आयुवेर्दिक दवाएं बरामद हुई थीं।

25 नवंबर को स्वास्थ्य विभाग की टीम लेकर बीएमओ डॉ. विपिन राय ने एसडीएम पीपी शर्मा और पटेवा टीआई शशिकला मरकाम के साथ ईएस क्लिनिक में छापे की कार्रवाई की थी। बाद बीएमओ डॉ. राय ने पटेवा पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उनकी रिपोर्ट पर पुलिस ने झलप के छिलपावन चौक स्थित ईएस क्लिनिक के संचालक बावनकेरा थाना पटेवा निवासी संतोष कुमार श्रीवास्तव (43) के विरुद्ध छग राज्य उपचारगृह रोगोपचार संबंधी स्थापनाएं अनुज्ञापन अधिनियम 2010 की धारा 4(क) एवं 12, गर्भधारण एवं प्रसव पूर्व निदान तकनीक अधिनियम (लिंग चयन प्रतिषेध) 1994 की धारा 18, 22, 23 और छग आयुर्विज्ञान अधिनियम 1987 की धारा 24 के तहत जुर्म दर्ज किया है। आरोपी अभी पुलिस गिरफ्त से बाहर है। उसके क्लिनिक का साइन बोर्ड बदल दिया था, जिसे बुधवार को फिर पोतवा दिया।

महासमुंद बीईओ डॉ. विपिन राय ने बताया कि बुधवार को फिर की गई छापे की कार्रवाई में जो सामान, सबूत और संकेत मिले हैं, उससे आशंका है कि क्लिनिक में बड़े पैमाने पर भू्रण हत्या होती थी और गर्भपात के बाद भू्रण कुएं में या यहीं जमीन पर दफ्न किए जाते थे।

पटेवा थाना टीआई शशिकला मरकाम ने बातया कि जुर्म दर्ज कर लिया गया है, विवेचना चल रही है, जल्द ही गिरफ्तारी भी की जाएगी।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???