Patrika Hindi News

> > > > Public Undertakings Committee of the Assembly Secretariat indicated several errors on the highway

विधानसभा सचिवालय की सरकारी उपक्रम समिति ने बताई हाईवे पर कई त्रुटियां

Updated: IST Mandsaur News
तीन साल पहले भी विधानसभा द्वारा गठित समिति ने बताई थी 72 त्रुटियां, अभी भी कई जगह डेथ पाइंट, लोक निर्माण विभाग ने विधानसभा में भी दी थी गलत जानकारी।

मंदसौर। विधानसभा सचिवालय की सरकारी उपक्रमों संबंधी समिति के सदस्यों ने गुरुवार को महू-नीमच हाईवे का निरीक्षण किया। समिति के सदस्यों ने निर्धारित मानकों के अनुसार इस मार्ग पर कहीं सुविधाएं मुहैया नहीं कराई हैं। वहीं सड़क निर्माण में भी कई त्रुटियां अभी भी हैं। यह तब है जब तीन साल पहले विधानसभा द्वारा बनाई समिति के सदस्यों ने हाईवे की 72 कमियां बताई थीं। तीन साल बाद भी इनमें से अधिकांश कमियां अभी भी संबंधित ठेकेदार ने दूर नहीं की हैं। यहां तक की शासन द्वारा टोल नाके से 20 किलोमीटर के दायरे वाले गांवों व कस्बों के लोगों से टोल नहीं लेने के आदेश का भी पालन नहीं हो रहा है।

समिति के सभापति यशपालसिंह सिसौदिया ने कहा कि कई जगह ले-बॉय मानक अनुसार नहीं है तो कई जगह ले-बॉय बनाए ही नहीं हैं। चालकों के लिए रिटायर्ड रूम भी कई जगह नहीं बनाए हैं। जहां बनाए, उनमें से अधिकांश जर्जर हैं। कई जगह संकेतक भी नहीं है। हाईवे पर जहां सर्कल बनाना चाहिए वहां सर्कल भी नहीं हैं। स्पीड ब्रेकर पर भी कहीं कोई संकेतक नहीं हैं। जहां सहायक मार्ग हाईवे से जुड़ते हैं वहां भी सुरक्षा की दृष्टि से किए जाने वाले उपाय नहीं किए हैं। हाईवे पर कहीं जगह डेथ पाइंट बनते जा रहे हैं, इसके लिए भी संबंधित ठेकेदार या सडक विकास निगम ने पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था नहीं की है। सर्विस लेन भी मापदंडअनुसार कई जगह नहीं बनी है।

सड़क विकास निगम ने दी थी गलत जानकारी

करीब 3 साल पहले विधायक यशपाल सिंह सिसौदिया ने महू-नीमच हाईवे निर्माण की त्रुटियों को लेकर सवाल उठाए थे। उस पर सड़क विकास निगम ने जो जवाब दिए थे, उसकी जांच के लिए विधानसभा द्वारा बनाई गई समिति ने हाईवे का निरीक्षण किया था। उस समय समिति सदस्यों ने 72 त्रुटियां गिनाई थीं। इस तरह सड़क विकास निगम द्वारा दी गई जानकारी गलत साबित हुई थी।

मुश्किल हो गया हाईवे पर चलना

जब से महू-नीमच राजमार्ग फोरलेन बना है, तब से इस पर यात्रा करना आसान होने की बजाय मुश्किल हो गया है। जानकारी अनुसार लगभग हर साल 500 से अधिक दुर्घटनाएं इस हाईवे पर होती हैं, जिसमें सैकड़ों लोगो की मौत हो जाती है, वहीं करीब 400 से अधिक लोग घायल हो जाते हंै।

लोनिवि की रिपोर्ट में भी बताया कई काम अपूर्ण

लेबड़ से नयागांव तक फोरलेन हाईवे पर कई कार्य अपूर्ण है। यह जानकारी लोक निर्माण विभाग ने विधायक यशपालसिंह सिसौदिया द्वारा विधानसभा में पूछे गए प्रश्न के उत्तर में दी गई है। खासतौर पर बस व ट्रक ले बाय क्षेत्र में सुविधाओं की कमी की बात विभाग ने स्वीकारी थी। मंदसौर-प्रतापगढ़ मार्ग के पास फोरलेन पर ट्रक ले बाय पर सुविधाएं पूर्ण होना बताई गई। हकीकत में वहां कोई सुविधा है ही नहीं है।

पुलिस भी है लापरवाह

हाईवे पर सड़क किनारे घंटों लोग ट्रक खड़ा कर देते हैं। तेज गति से चलाने वाहन चालकों को दूर से सड़क किनारे खड़े ट्रक ठीक से दिखाई नहीं देते। पास आने पर वाहन खड़े ट्रक में घुस जाता है। अनेक हादसों के बाद भी पुलिस ने सड़क पर ट्रक खड़ा करने वालों के खिलाफ न तो कोई कार्रवाई की और न ही मोबाइल गश्त कर ऐसे ट्रकों को हाईवे से हटाया है।

अभी भी कई कमियां पाई गई हैं

&सरकारी उपक्रमों से संबंधित विधानसभा सचिवालय की समिति के 9 सदस्यों के साथ महू-नीमच हाईवे का निरीक्षण किया गया। इसमें अभी भी कई कमियां पाई गई है। सड़क विकास निगम के अधिकारियों को निर्देशित किया हैकि वे 20 किलोमीटर के दायरे में आने वाले गांवों व कस्बों के लोगों को टोल टैक्स में छूट दें। हाईवे पर जो त्रुटियां है, उसे सुधारा जाएं।

- यशपालसिंह सिसौदिया, विधायक मंदसौर एवं समिति सभापति

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे