Patrika Hindi News

संदिगध जासूस आर्मी क्षेत्र से गिरफ्तार

Updated: IST suspect Man
गुप्तचर इकाई ने म्यांमार के संदिग्ध शरणार्थी को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए संदिग्ध ने संवेदनशील इलाके में रहकर पासपोर्ट हासिल कर लिया। इसके साथ ही उसके खाते से बड़ी राशि का लगातार बड़ा लेनदेन भी किया जा रहा था।

मथुरा. गुप्तचर इकाई ने म्यांमार के संदिग्ध शरणार्थी को गिरफ्तार किया है। संदिग्ध पिछले 10 सालों से मथुरा में रहकर कचरा बीनने का काम कर रहा था । पकड़े गए संदिग्ध ने संवेदनशील इलाके में रहकर पासपोर्ट हासिल कर लिया। इसके साथ ही उसके खाते से बड़ी राशि का लगातार बड़ा लेनदेन भी किया जा रहा था। फिलहाल पुलिस ने संदिग्ध को जेल भेज दिया है और जांच में जुट गयी है ।

कुल नौ भाई—बहन

मथुरा के थाना सदर बाजार में पुलिस गिरफ्त में यह युवक मोहम्मद सादिक हुसैन दस साल पहले बर्मा से शरणार्थी बनकर मथुरा आया था। यहां के आर्मी एरिया से सटे औरंगाबाद में रहने लगा। 4 भाई और 5 बहनों के साथ मथुरा आये सादिक ने यहां रहकर कूड़ा बीनने का काम शुरू कर दिया। इस दौरान उसने अपनी तीन बहनों की शादी भी कर दी । पुलिस सूत्रों की मानें तो इस पर शक उस समय हुआ जब इसके खाते से बड़ी रकम का लेनदेन हुआ। इस लेनदेन के कारण केंद्रीय एजेंसियों के निशाने पर आये मोहम्मद सादिक हुसैन की जब ख़ुफ़िया एजेंसियों ने जांच की तो इसका पासपोर्ट गलत पाया गया । जिसके बाद इसे तुरन्त गिरफ्तार कर जेल भेज दिया और जांच शुरू कर दी । वहीं पुलिस गिरफ्त में आया मोहम्मद सादिक हुसैन अपने को बेक़सूर बता रहा है ।

कबाड़ा बीनने का काम करता था सादिक मोहम्मद

उसके भाई सद्दाम ,हासिम ,नूर हसन ,रद्दम हुसैन और इसके आलावा बहन नूरा बेगम , समीना , फस्तिमा ,तासीमा , शकुतरा एवम पत्नी रादिया के साथ रहता था । रफीक और सलीम इसके दो बेटे है । उसके पास जो दस्तावेज मिले है वो फर्जी पाये गए है । अगर पुलिस और ख़ुफ़िया विभाग की माने तो उसके पास यूनीसेफ के द्वारा दिए गए शरणार्थी अभिलेख में इसके नाम और जन्मतिथि में आधार कार्ड से अलग पाया गया है। इसके पास से मिले दस्तावेजो में नाम अलग आया गया है । मोहम्मद सादिक , इसकी दूसरी जगह इसका नाम सादिक हुसैन पाया है । इसी तरह से इसके पिता का भी नाम मोहम्मद हाफिज और दूसरी जगह हाबिद पाया गया है ।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???