Patrika Hindi News

> > > Bank employees fraud makes a BPL woman millionaire, gets income tax notice

बैंक ने दिखाया 'कमाल' बीपीएल महिला बनी लखपति

Updated: IST Cashless Economy: How to your smartphone work like
बैंक की कृपा से एक बीपीएल महिला अनजाने में लखपति बन गई पर कागजों में

नई दिल्ली/ हनुमानगढ़। बैंक की कृपा से एक बीपीएल महिला अनजाने में लखपति बन गई पर कागजों में। अब उसके सिर पर आयकर विभाग की तलवार लटक रही है। उसके नाम से एक्सिस बैंक में कथित फर्जी तरीके से खुले बचत खाते में दो वर्ष में 75-80 लाख रुपए टर्न ओवर हो गया। आयकर विभाग का नोटिस मिलने के बाद पता चलने पर मजदूरी कर पेट पालने वाले इस परिवार के होश उड़ गए। मंगलवार को पीडि़त परिवार श्रीगंगानगर में आयकर विभाग के सहायक निदेशक समक्ष पक्ष रखने गया पर अधिकारी शिविर में होने से कोई सुनवाई नहीं हुई।

जानकारी के अनुसार शहर के वार्ड आठ निवासी सुरेंद्र धानका पत्नी ममता और चार बच्चों सहित मजदूरी कर जीवन निर्वाह कर रहा है। सहायक निदेशक आयकर श्रीगंगानगर से 16 नवंबर को उसकी पत्नी ममता के नाम से जारी नोटिस मिलते ही उसके होश उड़ गए। ममता अनुसूचित जनजाति से है। उसका बीपीएल और भामाशाह कार्ड बना हुआ है। उसके ओबीसी के बचत खाते में जीरो बेलेंस है तथा दूसरा खाता जन-धन योजना में एसबीबीजे में 28 अगस्त 2014 को खुला।

इस परिवार ने अपने जीवन में लाखों का लेनदेन तो दूर देखा तक नहीं। सुरेंद्र धानका ने बताया कि वर्ष 2014 में उसकी पत्नी ममता मोहल्ले की औरतों के साथ खाता खुलवाने एक्सिस बैंक गई थी। वहां फार्म व आईडी लेकर रख लिए गए तथा बाद में आने को कहा गया। इस दौरान ममता का खाता एसबीबीजे में खुल गया तो वह कभी एक्सिस बैंक नहीं गई।

शक की सुई कार्मिक पर

आयकर विभाग का नोटिस मिलने के बाद सुरेंद्र ने पता लगाया तो एक पुराने बैंक कर्मी पर शक की सुई गई। अब हालत यह है कि सुरेन्द्र परेशान है और बैंक उसे पूरी सूचना देने में आनाकानी कर रहा है। उसे लेनदेन के दिए गए विवरण से तीन पास बुक भर गई। इसके बाद संदेह के घेरे में आए बैंक कर्मी ने कुछ व्यापारियों, मजदूर नेताओं व अन्य लोगों से मिलकर सब कुछ सही करने के लिए मोहलत मांगी है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???