Patrika Hindi News

> > > Delhi HC clarifies on citizenship to Tibetans

1950 से 1987 के बीच पैदा हुए तिब्बती को भारतीय नागरिक माना जाए: HC

Updated: IST Delhi High Court
दिल्ली HC ने एक फैसले में आदेश दिया है कि 26 जनवरी 1950 के बाद और 1 जुलाई 1987 तक भारत में जन्मे तिब्बती मूल के लोग भारतीय नागरिक कहलाऐंगे...

नई दिल्ली। अब तक तिब्बत पर चीन के अत्याचारों का डर बना हुआ था लेकिन अब तिब्बतियों को दिल्ली उच्च न्यायालय के एक निर्णय से राहत मिलेगी। दरअसल दिल्ली उच्च न्यायालय ने अपने एक फैसले में आदेश दिया है कि 26 जनवरी 1950 के बाद और 1 जुलाई 1987 तक भारत में जन्मे तिब्बती मूल के लोग भारतीय नागरिक कहलाऐंगे। इन लोगों को भारतीय पासपोर्ट दिए जाने से इन्कार नहीं किया जा सकता है।

मिली जानकारी के अनुसार दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक मामले में इस तरह का निर्णय दिया है। तिब्बती मूल के इन लोगों को पासपोर्ट देने से इन्कार कर दिया गया। ऐसे में तीन भारतीय तिब्बतियों की ओर से दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दायर की गई थी। तीनों ने अपने भारतीय नागरिक होने की बात कही और कहा कि इसके बाद भी उन्हें पासपोर्ट देने से इन्कार कर दिया गया। न्यायालय ने इन नागरिकों को चार सप्ताह में पासपोर्ट देने का आदेश दिया है।

तीन में से दो नागरिकों ने कहा था कि वे 26 जनवरी 1950 से 1 जुलाई 1987 के बीच पैदा हुए हैं जबकि एक और व्यक्ति ने याचिका दायर करते हुए कहा था कि उसके पिता इस अवधि के बीच पैदा हुए थे। जिसके कारण वह भारतीय नागरिक है। उल्लेखनीय है कि यदि 1987 के बाद पैदा हुए व्यक्ति के माता पिता में से कोई भारत में पैदा हुआ है तो वह भी भारतीय नागरिकता पाने का अधिकारी है। ऐसे में तीनों को भारतीय नागरिक बताते हुए पासपोर्ट दिए जाने का आदेश दिया गया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे