Patrika Hindi News

> > > om puri reaches martyr nitin yadav village seeks forgiveness

शहीद के गांव पहुंचते ही रो पड़े ओम पुरी, कहा-प्रायश्चित करने आया हूं

Updated: IST om puri
ओम पुरी ने जिस शहीद जवान पर अमर्यादित टिप्पणी की थी उसे श्रद्धांजलि देने पहुंचे थे

नई दिल्ली। ओम पुरी जम्मू के बारामूला में शहीद जिस जवान पर अमर्यादित टिप्पणी कर विवादों में आए थे उसी गांव पहुंच कर रो पड़े। पुरी मंगलवार दोपहर उसी शहीद के घर पहुंचे और फफक-फफक कर रो पड़े। शहीद नितिन को श्रद्धांजलि देते हुए पुरी ने कहा कि मैं पश्चाताप नहीं, प्रायश्चित करने आया हूं। उन्होंने कहा कि मुंह से जो निकला था, वह दिल से नहीं निकला, फिर भी मैं माफी मांगता हूं।

2 अक्टूबर को शहीद हुआ था जवान
शहीद नितिन यादव इटावा के नगला बरी गांव के रहने वाले थे और वो 2 अक्टूबर को बारामूला में आतंकी हमले में शहीद हो गए थे। इसके बाद ओम पुरी ने शहीदों के प्रति अमर्यादित टिप्पणी की थी। उन्होंने कहा था कि शहीदों से सेना में भर्ती होने के लिए किसने कहा था। उनकी इस टिप्पणी से पूरे देश में भारी गुस्सा दिखा था और उनका विरोध भी किया गया था। इसके बाद अब मंगलवार दोपहर शहीद के गांव पहुंचे ओम पुरी काफी देर तक शहीद के परिवारीजनों को सांत्वना देते रहे। पुरी ने शहीद की आत्मा की शान्ति के लिए वेदोच्चारण के बीच हवन भी किया।

गांव पहुंचे तो याद आया बचपन
आपको बता दें कि मंगलवार को ओम पुरी का जन्मदिन भी था। इस वजह से लोगों ने उनको जन्मदिन की बधाई भी दी। इसी बीच गांव का माहौल देखकर अपने बचपन की यादों में खो गए। उन्होंने गांव में जब चारा काटने की मशीनें और गाय-भैंसें देखीं तो बोले कि मैं भी गांव में पला बढ़ा हूं। मैं हाईस्कूल तक गांव में रहा, चारा काटने वाली इन्हीं मशीनों से चारा काटा। अरसे बाद गांव पहुंचने पर बचपन की यादें ताजा हो गईं।

गांव में उमड़ी भारी भीड़
ओम पुरी लगभग 3 घंटे तक शहीद नितिन यादव के गांव में रहे। उन्होंने शहीद को नमन करने के साथ ही उनके माता-पिता ऊषा देवी एवं बहादुर सिंह यादव को सांत्वना भी दी। उनके साथ आए आर्य समाजी डॉ. वागीश की देखरेख में हवन किया। इस मौके पर एक बार फिर शहीद के गांव में भारी भीड़ उमड़ पड़ी। हालांकि ओमपुरी के यहां आने की खबर पूरी तरह गुप्त रखी गई थी। इसके लिए केवल शहीद के परिवारीजनों को ही संदेश भेजा गया था जिसमें निवेदन किया गया था कि इसकी जानकारी सार्वजनिक नहीं की जाए, क्योंकि पता चलने पर भीड़ बढ़ सकती है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???