Patrika Hindi News

खादी आयोग के कैलेंडर पर छपी मोदी की तस्वीर, विपक्ष सहित शिवसेना भड़की

Updated: IST Khadi Calendar
खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के कैलेंडर और डायरियों पर महात्मा गांधी की तस्वीरों की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर छापे जाने की कड़ी आलोचना की है।

मुंबई। केंद्र और महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ भाजपा की सहयोगी शिवसेना और विपक्षी कांग्रेस व राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने शुक्रवार को साल 2017 के खादी और ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) के कैलेंडर और डायरियों पर महात्मा गांधी की तस्वीरों की जगह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर छापे जाने की कड़ी आलोचना की है।

केवीआईसी के कैलेंडर और डायरी पर मोदी की महात्मा गांधी की मुद्रा में चरखा के साथ तस्वीरों पर प्रतिक्रिया देते हुए शिवसेना के मुंबई दक्षिण से लोकसभा सदस्य अरविंद सावंत ने कहा कि इस खबर से बहुत ही दुखी हूं। सावंत ने मीडिया से कहा कि किसी को भी इस पर आपत्ति नहीं होती यदि यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर चरखे पर खादी की कताई करते हुए होती। आपत्तिजनक यह है कि महात्मा गांधी की तस्वीरों की जगह उनकी तस्वीरों को लगाया गया है। यह दर्दनाक है।

उन्होंने टिप्पणी कि यह घटना एक उदाहरण है कि जब कोई व्यक्ति आत्मकेंद्रित हो जाता है तो क्या घटित हो सकता है। पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता नारायण राणे ने भी आलोचना की। उन्होंने कहा लोगों ने इसे बहुत बुरे तौर पर लिया है और इसे जल्द नहीं भुलाया जा सकेगा। राणे ने संवाददाताओं से कहाकि क्या मोदी सोचते है कि वह अपनी तस्वीरें चरखे के साथ रखकर महान व्यक्ति महात्मा बन जाएंगे। वह इस तरह की चीजों से वह गांधी जी का दर्जा कभी नहीं पा सकते।

अपने तीखी प्रतिक्रिया में वरिष्ठ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के नेता अजित पवार ने कहा कि यह मोदी की तुलना महान ऐतिहासिक हस्तियों से करने की रणनीति है। पवार ने कहाकि क्या किसी की तुलना गांधी जी या ज्योतिबा फूले से हो सकती है, नहीं हो सकती। इसी वजह से उन्हें महात्मा कहा जाता है। क्या मदर टेरेसा से किसी की तुलना हो सकती है? अपनी महानता की वजह से वह संत घोषित की गईं।

राकांपा की मुंबई की महिला शाखा की अध्यक्ष सुरेखा पेडनेकर ने कहा कि लोगों ने मोदी की तस्वीरों को महात्मा गांधी के तस्वीरों से बदले जाने को पूरी तरह से अस्वीकार किया है। पेडनेकर ने कहा कि स्वदेशी, चरखा और खादी गांधी जी के उपहार है और यह देश की स्वतंत्रा के अटूट हिस्से हैं। आरएसएस से प्रेरित भाजपा सरकार के सत्ता में आने के बाद महात्मा गांधी के आदर्शों और दर्शन को मिटाने का काम चल रहा है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???