Patrika Hindi News

 ड्यूटी पर तैनात पुलिस बल, अर्धसैनिक बल लगा सकेंगे लाल और नीली बत्ती 

Updated: IST Police and security forces able to install red blu
लॉ एंड ऑर्डर बनाए रखने के लिए केंद्र ने कुछ विभाग और एजेंसियों को लाल बत्ती या नीली बत्ती लगाने के निर्देश दिए हैं। केंद्र ने ड्यूटी पर तैनात पुलिस, रक्षा और अर्धसैन्य बलों समेत आपातकालीन वाहनों को लाल, नीली और सफेद रंग की बत्ती के इस्तेमाल करने की मंजूरी दी है।

नई दिल्ली:वीआईपी कल्चर खत्म करने के लिए मंत्री से लेकर प्रधानमंत्री तक की गाड़ियों से भले ही लाल बत्ती हटा दी गई है। लेकिन लॉ एंड ऑर्डर बनाए रखने के लिए केंद्र ने कुछ विभाग और एजेंसियों को लाल बत्ती या नीली बत्ती लगाने के निर्देश दिए हैं। केंद्र ने कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए ड्यूटी पर तैनात पुलिस, रक्षा और अर्धसैन्य बलों समेत आपातकालीन वाहनों को लाल, नीली और सफेद रंग की बत्ती के इस्तेमाल करने की मंजूरी दी है।

वीआईपी कल्चर खत्म करने के लिए हटाई गई थी बत्तियां
गौरतलब है कि वीआईपी संस्कृति समाप्त करने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बीते महीने यह निर्णय लिया था कि एक मई से एम्बुलेंस और दमकल जैसे आपातकालीन वाहनों को छोड़कर सभी वाहनों पर से बत्तियां हटाई जायेंगी।

ड्यूटी पर तैनात गाड़ियों को मिलेगी बत्ती
सड़क यातायात और राजमार्ग मंत्रालय ने एक अधिसूचना में कहा, केंद्र सरकार यह स्पष्ट करना चाहती है कि ड्यूटी पर तैनात वाहन जैसे कि आपातकालीन और आपदा प्रबंधन के लिए निर्धारित वाहनों को लाल, नीली और सफेद बत्तियों का इस्तेमाल करने की अनुमति दी जा सकती है।

कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए की गई कवायद
ऐसे वाहनों के बारे में विस्तार से बताते हुए अधिसूचना में कहा गया है कि इसमें कानून एवं व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए आग पर काबू पाना और पुलिस, रक्षा बलों या अर्धसैन्य बलों जैसे कार्य शामिल हैं। इसमें भूकंप, बाढ़, भूस्खलन, चक्रवात, सूनामी और मानव निर्मित आपदाएं जैसे कि परमाणु आपदा, रासायनिक आपदा और जैविक आपदा समेत प्राकृतिक आपदाओं के प्रबंधन से जुड़े कार्यों में भी ऐसी बत्तियों का इस्तेमाल किया जा सकता है

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???