Patrika Hindi News

बिना किसी कारण पुलिसवाले ने छीनी बाइक की चाबी, इसके बाद युवक ने जो किया वो कमाल था!

Updated: IST Policeman Snatched Away His Bike’s Keys For No Rea
यह सबसे बड़ा सच है कि अगर आपके पास आपके वैद्य कागजात हैं और अगर आपने कोई नियम नहीं तोडा है तो कोई भी पुलिस कर्मी आपको ऐसे नहीं रोक सकता और न ही आपकी गाडी की चाबी निकाल सकता है...

हम में से ज्यादातर लोग अपने अपने वाहनों से सड़क पर ट्रैवेल करते हैं, ऑफिस जाते हैं, बाजार जाते हैं, घूमने जाते हैं और अगर हमारे पास हमारे वाहन के वैद्य कागज हैं और अगर हम कोई नियम और कानून नहीं तोड़ रहे होते हैं तब हमें शायद कोई ऐसा डर नहीं होता कि पुलिस द्वारा हमें पकड़ लिया जायेगा या हमारे वाहन का चालान कर दिया जाएगा।

लेकिन कभी-कभी ऐसा भी होता है कि हमारे सामने कुछ ऐसी परिस्थितियां आ जाती हैं कि जिनसे हमें लगता है कि हमें बिना किसी बात के परेशान किया जा रहा है।

हम अब जो आपको बताने और दिखाने जा रहे हैं वो इस सच्चाई की वास्तविकता को सामने रखता है और स्थिति की वास्तविकता को भी दर्शाता है।

इस सच को सामने लेकर आया है पर्थ पी. बोराह नाम का हमारे देश का ही एक नागरिक! जिसने कुछ ऐसी ही परिस्थितियों को झेला और बर्दास्त किया लेकिन उसने अपनी आवाज़ उठाई। पर्थ की बाइक को कुछ पुलिसकर्मियों द्वारा रोका गया और रोकने के बाद तीन मिनट तक उससे पूछताछ की गई, इन तीन मिनटों में वो पुलिसकर्मी उससे ड्राइविंग लाइसेंस और बाइक के अन्य पंजीक्रत कागजात के लिए पूछताछ करते रहे।

खैर! यहां तक तो सब कुछ ठीक ठाक चलता रहा क्योंकि पर्थ के पास सारे कागजात मौजूद थे। लेकिन उसके बाद उन पुलिसकर्मियों ने जो कहा वो कहीं से भी एक पुलिस कर्मी का काम नहीं था।

इसी बीच पर्थ और पुलिसकर्मी के बीच कुछ ऐसी बहस हुई कि उन पुलिसकर्मियों में से एक पुलिसकर्मी ने उसकी बाइक की चाबी खींच ली, इसके तुरंत बाद ही पर्थ ने अपने मोबाइल फ़ोन पर फेसबुक में लाइव जाते हुए इस घटना को अपने मोबाइल में लाइव कैद कर लिया, जिसमें कि उन पुलिस कर्मियों की सारी बातें भी लोगों तक पहुँचने लगीं।

वीडियो में आप साफतौर पर देख सकते हैं कि पुलिस पेट्रोलिंग कार पर कोई रजिस्टर्ड नंबर प्लेट नहीं है। यह एक आदर्श उदाहरण है कि कैसे कानून के रखवाले ही कानून को तोड़ने वाले बन जाते हैं।

यह सबसे बड़ा सच है कि अगर आपके पास आपके वैद्य कागजात हैं और अगर आपने कोई नियम नहीं तोडा है तो कोई भी पुलिस कर्मी आपको ऐसे नहीं रोक सकता और न ही आपकी गाडी की चाबी निकाल सकता है। एडवोकेट पवन पारीख द्वारा लगाईं गई आरटीआई में जो जबाब दिया गया उससे यह साफ़ हो जाता है कि किसी भी बाइक या कार की इस तरह चाबी निकालना पूरी तरह से गलत है। किसी भी पुलिसकर्मी को, फिर चाहे वो किसी भी पद का हो, उसे ऐसा करने का कोई अधिकार नहीं है।

लेकिन पर्थ के मामले में ऐसा नहीं हुआ, यहां पुलिसकर्मियों ने न सिर्फ उसकी गाडी की चाबी निकाली बल्कि उससे बत्तमीज़ी तक की गई.यह मामला सिर्फ यहीं शांत नहीं हुआ, इस घटना के अगले दिन उसे पूछताछ के लिए पुलिस थाने बुलाया गया, जहां उसे पुलिसकर्मियों की ड्यूटी में व्यवधान डालने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद एक स्थानीय अदालत ने पर्थ को आईपीसी की धारा 294 और 353 सार्वजनिक रूप से आपत्तिजनक भाषा का प्रयोग करने और एक लोक सेवक को अपने कर्तव्य निर्वाहन से रोकने के आरोप में 14 दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।

पार्थ इस वक्त 14 दिनों की पुलिस हिरासत में है लेकिन अब उसके परिजनों का कहना है कि यह कैसा न्याय जिसने एक ऐसे व्यक्ति को जेल भेज दिया जिसने अपने ऊपर हुए अन्याय के खिलाफ आवाज़ उठाई, जबकि उन पुलिसकर्मियों के खिलाफ कोई कदम नहीं उठाया गया जिन्होंने वहां चेकिंग के नाम पर पर्थ को बेवजह परेशान किया।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???