Patrika Hindi News

नेताजी की पत्नी नहीं लेती थी कोई मदद, बहन को दिए जाते थे 6 हजार सालाना

Updated: IST Netaji
राष्ट्रीय अभिलेखागार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेताजी के जन्मदिवस के मौके पर लगभग 100 फाइलों को सर्वाजनिक किया

नई दिल्ली। शनिवार को राष्ट्रीय अभिलेखागार में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेताजी के जन्मदिवस के मौके पर लगभग 100 फाइलों को सर्वाजनिक किया। नेताजी सुभाष चंद्र बोस के जीवन से जुड़े सर्वाजनिक किए गए दस्तावेजों में कई ऐसे दस्तावेज भी है जो सियासत को गरमाने के लिए काफी होंगे।

इन दस्तावेजों में तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरु का वह पत्र भी है जो उन्होंने ब्रिटेन के तत्कालीन प्रधानमंत्री क्लीमेंट एटली को लिखा था। इसमें उन्होंने नेताजी के लिए युद्ध अपराधी जैसे शब्द इस्तेमाल किए थे। हालांकि इस पत्र में नेहरु के हस्ताक्षर नहीं है, अंत में सिर्फ भारत के पहले प्रधानमंत्री का नाम लिखा है।

नेताजी की पत्नी ने मना कर दिया था मदद राशि लेने से

नेताजी की बेटी को 1964 तक AICC की ओर से हर साल 6000 रुपये दिए जाते थे। साल 1965 में उनकी शादी हो गई और यह रकम उन्हें दी जानी बंद कर दी गई थी। नेताजी की पत्नी ने किसी तरह की राशि लेने के से इंकार कर दिया था।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???