Patrika Hindi News

> > > Shia Personal Law Board To Move Supreme Court Against Triple Divorce

3 तलाक के खिलाफ शिया पर्सनल लॉ बोर्ड जाएगा सुप्रीम कोर्ट

Updated: IST Shia Personal Law Board Spokes Person
बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासबू अब्बास ने कहा कि एक वक्त में तीन बार तलाक देने की प्रथा ने बड़ी संख्या में घर उजाड़े हैं

नई दिल्ली। ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड सुप्रीम कोर्ट में चल रहे सायरा बानो के केस में तीन तलाक का विरोध करेगा। बोर्ड का दावा है कि कई सुन्नी धर्मगुरुओं ने भी एक समय में तीन तलाक देने के मसलों को सही नहीं बताया है। गुरुवार को सुल्तान-उल-मदारिस में ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड की कार्यकारिणी की बैठक हुई जिसमें यह प्रस्ताव पास हुआ। अब यह प्रस्ताव ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के माध्यम से सुप्रीम कोर्ट भेजा जाएगा।

बोर्ड के प्रवक्ता मौलाना यासबू अब्बास ने कहा कि एक वक्त में तीन बार तलाक देने की प्रथा ने बड़ी संख्या में घर उजाड़े हैं। इसका दुरुपयोग भी हुआ है। हमें इससे बचना चाहिए। इस्लाम के पांच फिकहों में एक जाफरी फिकहा है। इसमें तलाक को तीन बार में देने का नियम है। हम इसकी पैरवी किसी को नीचा दिखाने के लिए नहीं कर रहे हैं। बोर्ड को अपनी बात रखने का अधिकार है, इसलिए हम अपना मत रख रहे हैं। इससे काफी रिश्ते टूटने से बच जाएंगे।

बोर्ड बैठक में यह भी प्रस्ताव पास किया गया है कि देश की सभी राजनैतिक पार्टियां अपने अपने घोषणा पत्रों में शिया मस्लक के अधिकारों को भी शामिल करें। मौलाना यासूब अब्बास ने बताया कि कई प्रदेशों में चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में अगर वह शिया समुदाय से वोट चाहते हैं तो इस समाज के लिए कुछ करें। सिर्फ भाषण में योजनाओं का ऐलान न करें, बल्कि अपने घोषणापत्र में इस समुदाय की बेहतरी को जगह दें। इसके अलावा उड़ी में सेना पर हुए आंतकी हमले पर बोर्ड ने निंदा का प्रस्ताव पारित किया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे