Patrika Hindi News

> > > Side effects of note ban

पत्नी बीमार, 3 दिन से लाइन में, नहीं मिले रुपए

Updated: IST bank line noteban
लोगों ने निकट स्थित स्वास्थ्य केन्द्र से एएनएम को मौके पर बुलवाया, लेकिन तब तक मेघाराम की सांसे थम चुकी थी

नई दिल्ली/ जयपुर। नोटबंदी के बाद बैंकों में रुपए जमा करवाने व निकालने के लिए 20वें दिन भी मंगलवार को लम्बी कतारें लगी रही। कस्बे के महावीर माली व डा. राजेन्द्र मोदी ने बताया कि बैंकों व एटीएम में पर्याप्त रुपए नहीं होने के कारण दैनिक रोजमर्रा के कार्य रुक गए हैं।

इधर, ओबीसी बैंक में एक बुजुर्ग रामलाल ने बताया कि उसकी पत्नी बीमार है। बीकानेर में भर्ती है। तीन दिन से लाइन में लगा हुआ हूं, लेकिन नंबर आने पर जवाब मिलता रुपए खत्म हो गए। वह बैंक के सामने ही रो पड़ा। इसी प्रकार शंकरलाल उपाध्याय ने बताया कि एक्सिस बैंक में तीन दिनों से लाइन में लगा हुआ हूं, लेकिन नंबर आता है तो जवाब मिलता है कल जमा करवाना। सब काम छोड़कर तीन दिनों से लाइन में लगा हुआ है, लेकिन जमा नहीं हो पा रहा है।

नकदी के इंतजार में टूटा दम

बैंक से नकदी निकालने के लिए मंगलवार को कतार में खड़े एक जने ने दम तोड़ दिया। उपखंड क्षेत्र के घांसीड़ा गांव निवासी 40 वर्षीय मेघाराम राशि आहरण पर्ची भरकर सवेरे पांच बजे से एसबीबीजे बैंक की शाखा भूका भगतसिंह के आगे बारी के इंतजार में खड़ा था। इसी दरम्यान करीब 10.30 बजे गश खाकर नीचे गिर गया और उसने मौके पर दम तोड़ दिया। लोगों ने निकट स्थित स्वास्थ्य केन्द्र से एएनएम को मौके पर बुलवाया, लेकिन तब तक मेघाराम की सांसे थम चुकी थी। घटना के समय शाखा प्रबंधक चेस्ट बैंक से नकदी लेने बालोतरा गए हुए थे।

चार लाख के पुराने नोट बरामद, गिरफ्तार

पुलिस ने कार्रवाई करते हुए झुंझुनूं रोड पर झुंझुनूं निवासी एक युवक से पुराने 500 एवं 1000 के चार लाख रुपए के नोट बरामद कर युवक को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि नाकाबंदी के दौरान एक टेम्पो चालक झुंझुनूं निवासी रियाज अली से पूछताछ करने एवं टेम्पो की तलाशी लेने पर टेम्पो से कपड़े की थैली में पांच सौ एवं एक हजार के पुराने चार लाख रुपए के नोट मिले।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???