Patrika Hindi News

जल्लीकट्टू के सांड के पेट से निकली हैरान कर देने वाली ऐसी चीजें, जिन्हें जान कर सहम जाएंगे आप!

Updated: IST Tamil Nadu: LED bulb, Plastic bags removed from bu
खबर के मुताबिक सर्जरी के बाद सांड के पेट से चिकित्सकों ने 38.4 किलोग्राम प्लास्टिक की थैलियां, एक एलईडी बल्ब, सेफ्टी पिन, नाखून और रस्सी निकाली...

तमिलनाडु: हाल ही के दिनों में जल्लीकट्टू को लेकर तमिलनाडु से लेकर दिल्ली तक बवाल मचा था। फसल कटाई के मौके पर तमिलनाडु में चार दिन का पोंगल उत्सव मनाया जाता है जिसमें तीसरा दिन मवेशियों के लिए होता है। तमिल में जली का अर्थ है सिक्के की थैली और कट्टू का अर्थ है बैल का सिंग। जल्लीकट्टू को तमिलनाडु के गौरव तथा संस्कृति का प्रतीक माना जाता है। इस खेल की परंपरा 2500 साल पुरानी बताई जाती है।

लेकिन अब इस खेल के पैमाने या यूं कहें तो इस परंपरा के तरीके में बदलाव नजर आने लगा है. लोग अपनी आस्था और अपने आनंद के लिए जानवरों पर क्रूरता दिखाई जाने लगी है। यही कारण है कि पशु प्रेमी इसके खिलाफ आवाज उठाने लगे हैं। इस खेल में रोमांच लाने के लिए बैलों को भड़काया जाता है इसके लिए उन्हें शराब पिलाने, नुकीली चीजों से दागने, उनपर सट्टा लगाने से लेकर उनकी आंखों में मिर्च डाला जाता है और उनकी पूंछों को मरोड़ा तक जाता है, ताकि वे तेज दौड़ सकें। इन्हीं तरह की क्रूरता के बीच जल्लिकट्टु में इस्तेमाल होने वाले एक सांड की खबर आई है जिसके पेट से हैरान कर देने वाली वस्तुएं बरामद हुई हैं।

Image result for jallikattu bull stomach operation

दरअसल, तंजावुर के एक संस्थान के पशु चिकित्सकों ने एक सांड के पेट से 38.4 किलोग्राम प्लास्टिक की थैलियां और एक एलईडी बल्ब निकाला है।

एक अंग्रेजी अखबार की खबर के मुताबिक तिरूचिरापल्ली जिले का अय्यप्पन सांड को भूख न लगने और कमजोरी की शिकायत के बाद बुधवार को यहां वेटर्निटी कॉलेज एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट के टीचिंग वेटरनली क्लीनिकल कंप्लेक्स (टीवीसीसी) लेकर आया था। इस सांड का इस्तेमाल जल्लीकट्टू में किया गया था।

जांच के बाद उसकी सर्जरी की गई। खबर के मुताबिक सर्जरी के बाद सांड के पेट से चिकित्सकों ने 38.4 किलोग्राम प्लास्टिक की थैलियां, एक एलईडी बल्ब, सेफ्टी पिन, नाखून और रस्सी निकाली।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???