Patrika Hindi News

विकास स्वरूप बने कनाडा में उच्चायुक्त

Updated: IST vikas swarup
मंत्रालय ने गुरुवार को बताया कि फिलहाल अतिरिक्त सचिव के पद कार्य कर रहे स्वरूप को कनाडा में भारतीय उच्चायुक्त नियुक्त किया गया है

नई दिल्ली। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप को कनाडा में भारतीय उच्चायुक्त किया गया है। मंत्रालय ने गुरुवार को बताया कि फिलहाल अतिरिक्त सचिव के पद कार्य कर रहे स्वरूप को कनाडा में भारतीय उच्चायुक्त नियुक्त किया गया है। वह भारतीय विदेश सेवा के 1986 के बैच के अधिकारी हैं। वह जल्दी ही कनाडा में अपना नया पद भार ग्रहण करेंगे। मंत्रालय ने बताया कि आस्ट्रिया में राजदूत रेनू पाल को मोंटेगरो में भारतीय राजदूत नियुक्त किया गया है। वह अपना नया पदभार शीघ्र पदभार ग्रहण करेंगी।

अपनी ही नीतियों के चलते अलग-थलग पड़ा पाकिस्तान: स्वरूप

गोवा। आठवें ब्रिक्स सम्मेलन के समापन के बाद विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि यदि कोई अलग-थलग पड़ गया है तो यह उस देश की अपनी नीतियों की वजह से हुआ। भारत का इन चीजों से कोई लेना-देना नहीं है। स्वरूप उरी आतंकवादी हमले के बाद भारत के समर्थन में कई दक्षेस देशों के सामने आने और इस्लामाबाद में प्रस्तावित इस संगठन के सम्मेलन के रद्द होने के संदर्भ में बयान दे रहे थे।

उनसे पूछा गया था कि क्या भारत ने पठानकोट हमले के बाद पाकिस्तान को अलग-थलग करने का अभियान चलाया था क्योंकि यहां ब्रिक्स सम्मेलन के साथ ही बिम्सटेक सम्मेलन करने का फैसला अप्रैल में ही लिया गया था। स्वरूप ने कहा कि सभी दक्षेस देशों ने एकजुट होकर कहा कि आतंक के माहौल में इस्लामाबाद में दक्षेस सम्मेलन नहीं हो सकता। भारत ने 18 सितंबर के उरी हमले के बाद पाकिस्तान पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बढ़ाने की कोशिश तेज कर दी थी। इस हमले में 19 भारतीय सैनिक शहीद हुए थे। जिन आतंकवादियों ने हमला किया था, उनका संंबंध जैश-ए-मोहम्मद से था।

कई दक्षेस राष्ट्रों ने बाद में इस संगठन का सम्मेलन स्थगित करने का फैसला किया जो इस्लामाबाद में होना था। स्वरूप ने कहा कि अफगानिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, श्रीलंका एवं मालदीव ने तुरंत इस हमले की निंदा की। उन्होंने कहा कि ऐसे माहौल में सकारात्मक वार्ता नहीं हो सकती। हालांकि उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कड़ी आलोचना पर सरताज अजीज के बयान पर कोई टिप्पणी करने से इनकार कर दिया और कहा कि वह अपने साप्ताहिक प्रेस ब्रीफिंग में इस पर प्रतिक्रिया देंगे क्योंकि बिम्सटेक के सदस्य देशों के साथ भारत का जैसा द्विपक्षीय संबंध है, वैसा पाकिस्तान के साथ नहीं है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???