Patrika Hindi News

विश्व योग दिवस: 10 हजार साल पुराना है योग का अमृत

Updated: IST
चार साल पहले तक 21 जून का दिन पूरी दुनिया में सबसे लंबे दिन के रूप में जाना जाता था, अब इसे योग दिवस के रूप में भी याद किया जाता है।

नई दिल्ली। चार साल पहले तक 21 जून का दिन पूरी दुनिया में सबसे लंबे दिन के रूप में जाना जाता था, अब इसे योग दिवस के रूप में भी याद किया जाता है। 10 हजार साल से भी ज्यादा पुरानी भारतीय परंपरा को अब पूरी दुनिया में मान्यता मिल रही है। हालांकि फिलहाल योग के आठ अंगों में से एक आसन का प्रचलन ज्यादा है, लेकिन उम्मीद की जानी चाहिए कि आने वाले दिनों में अन्य सात अंग भी पूरी दुनिया में लोकप्रिय होंगे।
Image may contain: 3 people, people sitting

ये भी पढ़ें-

ऐसे हुई वैश्विक शुरुआत
- 4-5 दिसंबर 2011 को आयोजित ‘योग: विश्व शांति के लिए एक विज्ञान’ सम्मेलन में आया पहली बार 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने का विचार।
- 27 सितंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रखा प्रस्ताव।
- 193 सदस्य देशों ने प्रस्ताव को दी सहमति।

योग गुरु रामदेव ने योग के महत्व को विस्तारपूर्वक बताया। देखें वीडियो

ये है शीतली प्राणायाम, देखें वीडियो-

- 11 दिसंबर 2014 को संयुक्त राष्ट्र ने दी 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाने के प्रस्ताव को मंजूरी।
- 90 दिन में पूर्ण बहुमत से पारित हुआ यह प्रस्ताव। संयुक्त राष्ट्र में किसी दिवस प्रस्ताव के लिए सबसे कम समय।
Image may contain: one or more people and crowd

ये भी पढ़ें-

No automatic alt text available.

2015 में भारत ने बनाए 2 विश्व रिकॉर्ड
2015 में योग दिवस पर भारत ने दो विश्व रिकॉर्ड बनाए। इन्हें ‘गिनीज बुक ऑफ वल्र्ड रिकॉड्र्स’ में जगह मिली है। ये हैं वो दोनों रिकॉड्र्स-
1- 35,985 लोगों ने राजपथ पर एक साथ योग कर, एक जगह पर सबसे अधिक लोगों के योग करने का रिकॉर्ड बनाया
2- 84 देशों के प्रतिनिधियों ने इस आयोजन में हिस्सा लिया। यह एक साथ इतने देशों के नागरिकों के योग करने का विश्व रिकॉर्ड है।
Image may contain: 1 person, playing a sport, basketball court and shoes

थाईलैंड में मनाया गया तीसरा योग दिवस
भारत की ओर से शुरू किए गए योग दिवस की धूम अब विदेशों में मच रही है। इस बार भी कई देशों में योग दिवस मनाया जा रहा है। थाईलैंड में रविवार को तीसरा योग दिवस मनाया गया। इसमें हजारों की संख्या में लोगों ने हिस्सा लिया और योग क्रियाएं कीं।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???