Patrika Hindi News

> > > > mahalaxmi vrat katha: how Mahalaxmi worship began as Gajswrup

Photo Icon ऐसे शुरू हुई माता महालक्ष्मी के गजस्वरूप की पूजा, दो कथाओं से जानें

Updated: IST mahalaxmi
शास्त्रों में शुक्रवार को मां लक्ष्मी की उपासना का दिन माना गया है और मां को कई रूपों में पूजा जाता है। मां वैभव लक्ष्मी की पूजा-अर्चना हर शुक्रवार को की जाती है, वहीं मां महालक्ष्मी की पूजा साल में एक बार ही की जाती है।

जबलपुर। शास्त्रों में शुक्रवार को मां लक्ष्मी की उपासना का दिन माना गया है और मां को कई रूपों में पूजा जाता है। मां वैभव लक्ष्मी की पूजा-अर्चना हर शुक्रवार को की जाती है, वहीं मां महालक्ष्मी की पूजा साल में एक बार ही की जाती है।

इस पूजन का विशेष बखान शास्त्रों में किया गया है। इस व्रत को करने और कथा का पाठ करने से हर मनोकामना पूरी होती है। सिर्फ यही व्रत है, जिसमें 16 बार कहानी कही जाती है।

पहली कथा
प्राचीन समय में एक बार एक गांव में गरीब ब्राह्मण रहता था। वह नियमित रूप से श्री विष्णु का पूजन किया करता था। उसकी पूजा-भक्ति से प्रसन्न होकर उसे भगवान श्री विष्णु ने दर्शन दिए और ब्राह्मण से अपनी मनोकामना मांगने के लिए कहा। ब्राह्मण ने लक्ष्मी जी का निवास अपने घर में होने की इच्छा जाहिर की। यह सुनकर श्री विष्णु जी ने लक्ष्मीजी की प्राप्ति का मार्ग ब्राह्मण को बता दिया, जिसमें श्री हरि ने बताया कि मंदिर के सामने एक स्त्री आती है जो यहां आकर उपले थापती है। तुम उसे अपने घर आने का आमंत्रण देना और वह स्त्री ही देवी लक्ष्मी है। देवी लक्ष्मी जी के तुम्हारे घर आने के बाद तुम्हारा घर धन और धान्य से भर जाएगा। यह कहकर श्री विष्णु चले गए।

vishnu ji

अगले दिन वह सुबह चार बजे ही मंदिर के सामने बैठ गया। लक्ष्मी जी उपले थापने के लिए आईं तो ब्राह्मण ने उनसे अपने घर आने का निवेदन किया। ब्राह्मण की बात सुनकर लक्ष्मी जी समझ गईं कि यह सब विष्णु जी के कहने से हुआ है। लक्ष्मी जी ने ब्राह्मण से कहा की तुम महालक्ष्मी व्रत करो। 16 दिन तक व्रत करने और सोलहवें दिन रात्रि को चन्द्रमा को अघ्र्य देने से तुम्हारा मनोरथ पूरा होगा। ब्राह्मण ने देवी के कहे अनुसार व्रत और पूजन किया और देवी को उत्तर दिशा की ओर मुंह करके पुकारा, लक्ष्मी जी ने अपना वचन पूरा किया। उस दिन से यह व्रत इस दिन विधि-विधान से करने से व्यक्ति की मनोकामना पूरी होती है।

दूसरी कथा:
एक बार महालक्ष्मी का त्योहार आया। हस्तिनापुर में गांधारी ने नगर की सभी स्त्रियों को पूजा का निमंत्रण दिया, परन्तु कुंती से नहीं कहा। गांधारी के 100 पुत्रों ने बहुत सी मिट्टी लाकर एक हाथी बनाया और उसे खूब सजाकर महल में बीचों बीच स्थापित किया। सभी स्त्रियां पूजा के थाल ले लेकर गांधारी के महल में जाने लगीं। इस पर कुंती बड़ी उदास हो गईं, जब पांडवों ने कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि मैं किसकी पूजा करूं? अर्जुन ने कहा मां! तुम पूजा की तैयारी करो मैं जीवित हाथी लाता हूं।

elephant

अर्जुन इन्द्र के यहां गए और अपनी माता के पूजन हेतु वह ऐरावत को ले आए। माता ने सप्रेम पूजन किया। सभी ने सुना कि कुुंती के यहां तो स्वयं इंद्र का ऐरावत हाथी आया है तो सभी उनके महल की ओर दौड़ पड़े और सभी ने पूजन किया। इस व्रत पर सोलह बोल की कहानी सोलह बार कही जाती है और चावल या गेहूं अर्पित किए जाते हैं।

यह है 'सोलह बोल की कथा
अमोती दमो तीरानी, पोला पर ऊचों सो परपाटन गांव जहां के राजा मगर सेन दमयंती रानी, कहे कहानी। सुनो हो महालक्ष्मी देवी रानी, हम से कहते तुम से सुनते सोलह बोल की कहानी।।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे