Patrika Hindi News

निर्माणाधीन फोरलेन जगह-जगह लगी धंसने, आए दिन गिर रहे लोग

Updated: IST People who are falling in the daytime, in the form
पत्रिका में खबर प्रकाशन के बाद जांच टीम आई पर रिपोर्ट नहीं आया

मुंगेली. मुंगेली वासियों के लिए फोरलेन का निर्माण आफत बन गया है। ठेकेदार और अधिकारियों पर किसी भी प्रकार की कार्रवाई नहीं हो रहीं है। मुंगेली-गीधा फोरलेन को लेकर शहरवासी काफी आक्रोशित हैं।

पूर्व में पत्रिका में सुरक्षा मानकों का पालन न किए जाने को लेकर और रोड के गुणवत्ताविहिन निर्माण को लेकर खबर प्रकाशित किया गया था। खबर प्रकाशित होने के बाद गीधा में निर्माणाधीन पुल पर गिरकर दो मोटरसायकल सवार गंभीर रूप से घायल हो चुके हैं, जो अस्पताल में अब तक इलाज कराने को विवश हैं। इसके बाद भी लापरवाह अधिकारियों और ठेकेदार की उदासीनता बनी हुई है। गुणवत्ता विहिन सड़क निर्माण के खबर प्रकाशन के बाद जांच करने आयी टीम के निरीक्षण के दौरान आपत्तियां दर्ज कराई गई थी। लेकिन जांच अधिकारियों द्वारा यह कहा गया था कि जांच उपरांत ही कुछ कहा जा सकता है। जांच टीम के नमूना लेकर जाने के बाद रिपोर्ट का अब तक अता-पता नहीं है। गुणवत्ताविहिन सड़क निर्माण की पोल निर्माणाधीन सड़क स्वयं खोलने लगी है। कलेक्टर निवास से महज 50 मीटर आगे जो डामरीकरण का कार्य किया गया है। वहां की डामर की परतें अभी से उखडऩे लगी हैं। जबकि सड़क में डामरीकरण का कार्य अभी चालू ही हुआ है। शुरूआत में ही किया गया डामरीकरण पहली बारिश में ही उखडऩे लगा है तो आगे और क्या होगा भगवान ही मालिक है। बीते शुक्रवार की शाम को ही एक और दुर्घटना उक्त निर्माणाधीन फोरलेन सड़क पर हो गई। एक कार निर्माणाधीन सड़क और नाली के बीच में धंसकने से कार गड्ढ़े में समा गया। यह दुर्घटना सड़क निर्माण में किए गए घटिया रेस्टोरेशन और सामग्री की पोल खोल रही है। बरसात के दिनों में उक्त निर्माणाधीन फोरलेन सड़क पर दुर्घटना की संख्या में बढ़ोत्तरी सुरक्षा मानकों का पालन न करने के कारण को दर्शाता है। कमोबेश यही हाल लोक निर्माण विभाग द्वारा नए पुल निर्माण पर किए गए डामरीकरण का भी है। उक्त पुल पर किया गया डामरीकरण सड़क निर्माण में गुणवत्ताहीन सामग्री का उपयोग किए जाने के कारण को-ऑपरेटिव बैंक के पास की सड़क धंस गई है और डामर की परतें उखडऩे लगी हैं। जबकि उक्त रोड का डामरीकरण किए महज 3 से 4 माह ही हुए हैं।

फिर भी अधिकारियों और ठेकेदारों के मनोबल की तारीफ करनी होगी। यह समझ से परे है कि ऐसे किस प्रकार का संरक्षण ठेकेदार और अधिकारियों को प्राप्त है कि समाचार प्रकाशित होने के बाद भी किसी भी प्रकार से कहीं भी गुणवत्ता पर ध्यान नही दिया है और न ही सुरक्षा मानकों का पालन कराया गया। सबसे बड़ा सवाल मुंगेली के आमजनों के मन में यह है कि कब मुंगेली जिला को भ्रष्टाचार से मुक्ति मिलेगी।

स्कूल के गेट पर गंदगी, परेशानी

सीपत. नगर के आनंद चौक मार्ग पर स्कूलभांठा में स्थित शासकीय मिडिल स्कूल के मेंन गेट के बाहर लबालब गंदा पानी भरने की समस्या वर्षों से बनी हुई है। आसपास के गांवोंं से आने वाले विद्यार्थियों को कीचड़ से होकर जाना पड़ता है। यह समस्या आज की नहीं है, बल्कि विगत कई वर्षों से यह समस्या बनी हुई है। कई बार तो मिडिल के बच्चों के गिरने तक की नौबत आ चुकी है। फिर भी हालात जस के तस बना हुआ है। गंदे पानी के कारण पनप रहे कीड़े मकोड़े से भी बच्चे परेशान हैं। इस समस्या पर स्कूल प्रबंधन भी ध्यान नहीं दे रहा है। बच्चे मेंन गेट के गंदे पानी से होकर क्लास तक पहुँचते है। बारिश होते ही तलैया बन जाता है। स्कूल तक रोड का निर्माण करा दिया गया पर नाली नहीं बनने से जलभराव बना रहता है।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???