Patrika Hindi News
UP Scam

CISF कैम्प कांड: सिपाही का अंतिम संस्कार, भाई ने अधिकारियों पर लगाए गंभीर आरोप

Updated: IST crpf jawan
पढ़ें, क्या कहा सीआइएसएफ जवान के भाई ने

मुजफ्फरनगर। दो दिन पहले बिहार के औरंगाबाद जिले के नबीनगर पावर जनरेटिंग कम्पनी में सुरक्षा के लिए तैनात सीआइएसएफ के एक जवान द्वारा छुट्टी पर जाने को लेकर हुए विवाद में अपने साथियों पर गोलीबारी कर दी थी। जिसमें चार जवानों को मौत हो गयी थी। मरने वाले जवानों में एक मुजफ्फरनगर का निवासी भी है। जिसके पार्थिव शरीर को शनिवार सुबह 4 बजे उनके घर लाया गया। जहां गमगीन माहौल में उनको सलामी देते हुए उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

दरअसल गुरुवार दोपहर बिहार के औरंगाबाद जिले के नबीनगर प्रखंड स्थित नबीनगर पावर जनरेटिंग कम्पनी में सुरक्षा के लिए सीआइएसएफ के जवानों की एक टुकड़ी को तैनात किया हुआ था। सुरक्षा में तैनात एक सीआइएसएफ का जवान बलबीर का छुट्टी को लेकर विवाद हो गया। जिसमें बलबीर ने अपनी सर्विस गन से अपने साथियों पर गोलीबारी कर दी। जिसमें 4 जवानो की मौके पर ही मौत हो गयी। जबकि कई जवान घायल हो गए थे। मरने वाले चार जवानो में एक मुजफ्फरनगर जनपद के गांव बरवाला का लाल अरविन्द (44) वर्ष भी था।

No automatic alt text available.

जिसके पार्थिव शरीर को शनिवार की सुबह उनके गांव लाया गया। जहां उन्हें गमगीन माहौल में सलामी देते हुए उनका अंतिम संस्कार किया गया। जवान अरविन्द को श्रदांजलि देने के लिए गांव के हजारों लोगों का हुजूम उमड़ गया था। मृतक जवान अरविन्द के भाई प्रदीप ने बताया की हमें खेद है कि उनके विभाग की तरफ से हमें घटना के बारे में कोई सुचना नही दी गयी। हमको तो मीडिया के माध्यम से ही पता चला था। नबीनगर के प्लांट में घटना हो गयी है कि साथी सिपाही ने चार साथियों को मौत के घाट उतार दिया है। अब परिवार को हमें ही देखना है ना विभाग की तरफ से अभी कुछ बताया गया। आखिर किस प्रकार की सहायता दी जाएगी, कोई सुचना नहीं है।

उन्होंने कहा कि हमें इस बात का बहुत दुख है कि हमें तो क्या उसकी पत्नी वही रहती थी। उसे तक नहीं बताया गया। परसो से हमें झूठ बोलते रहे कि 2 घण्टे में उनका पार्थिव शरीर दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंच जाएगा लेकिन नहीं आया कल रात 9 बजे उनका पार्थिव शरीर दिल्ली एयरपोर्ट पर पहुंचा तब शव को हमारे सुपुर्द किया है। उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

वहीं मृतक के मित्र इंद्रवीर ने बताया कि अरविन्द एक अच्छे व्यक्तित्व का धनी था और सब मिलनसार और सादा था। जब भी गांव में आता था तो दोस्तों में मिलना और अपना खेती का काम आदि करना और अपना घर का काम करना था वह बहुत अच्छा था उसे भुलाया नहीं जा सकता है।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? निःशुल्क रजिस्टर करें ! - BharatMatrimony
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???