Patrika Hindi News
Bhoot desktop

सीबीआई ने 6 महीने बाद कब्र से निकलवाई लाश, जानिए पूरा मामला

Updated: IST 70 year old man die in hospital, dead body, postmo
छह महीने पहले मृतक को गौ रक्षा दल के लोगों ने रास्ते में रोका था

सहारनपुर। कस्बा गंगाेह में करीब 6 माह दफनाए गए युवक की लाश काे अब गंगाेह पहुंची सीबीआई की टीम ने कब्र से निकलवाया है। शव काे पाेस्टमार्टम कराने के लिए टीम अपने साथ ले गई है। देश के बड़े अस्पताल पीजीआई चंडीगढ़ में डॉक्टराें का पैनल अब इस लाश का डीएनए टेस्ट आैर पाेस्टमार्टम करेगा।

गुरुवार काे सीबीआई के इंस्पेक्टर दिनेश कुमार अपनी टीम के साथ गंगाेह पहुंचे आैर गंगाेह थाना पुलिस काे साथ लेकर गांव नाई माजरा गए। करीब छह माह पहले इसी गांव के रहने वाले युवक मुस्तईन की हरियाणा आैर उत्तर प्रदेश के बार्डर पर पीपली थाना क्षेत्र में माैत हाे गई थी। इसी की लाश काे अब कब्र से निकलवाया गया है। इस दाैरान भारी संख्या में लाेग इकट्ठा हाे गए। स्थानीय पुलिस-प्रशासन के अलावा मृतक युवक के परिजनाें के सहयाेग से सीबीआई टीम इसकी लाश काे कब्र से निकलवाकर पाेस्टमार्टम के लिए चंडीगढ़ ले गई है। छह माह बाद एक बार फिर से युवक मुस्तईन की माैत के मामले में इतनी बड़ी कार्रवाई हाेने से यह घटना पूरे इलाके में चर्चा का विषय बनी हुई है।

ये था पूरा मामला

मार्च माह में मुस्तईन अपने तीन दाेस्ताें के साथ हरियाणा जा रहा था। बताया जाता है कि इनके पास कुछ पशु थे आैर इन्हें पीपली थाना क्षेत्र में गाैरक्षा दल के लाेगाें ने पकड़ लिया था। यहां इस युवक मुस्तईन के दाेनाें दाेस्त काे भाग निकले थे लेकिन मुस्तईन का काेई पता नहीं चला था। बाद में इसकी लाश एक नाले से बरामद हुई थी। लाश मिलने के बाद मुस्तईन के पिता ताहिर ने आराेप लगाया था कि उनके बेटे की गाेली मारकर हत्या की गई है लेकिन इसकी पाेस्टमार्टम रिपाेर्ट में गाेली लगने की काेई स्पष्ट पुष्टि नहीं हुई थी। ताहिर ने इस मामले में थाना पीपली के तत्कालीन इंस्पेक्टर समेत पांच पुलिसकर्मियाें के खिलाफ रिपाेर्ट दर्ज कराई थी। यह मामला बाद में चंडीगढ़ हाईकाेर्ट चला गया था आैर फिर चंडीगढ़ हाईकाेर्ट ने इस मामले काे सीबीआई काे साैंप दिया था। अब सीबीआई की टीम ने इस मामले में यह कार्रवाई की है।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???