Patrika Hindi News

> > > > ghasipur encounter: parents accused police killing their son

घासीपुरा कांड: LLB के छात्र को घर से उठा ले गई थी पुलिस, दरोगा ने मांगे थे 20 हजार

Updated: IST ghasipur encounter
घासीपुर में तीन बदमाशों के हत्याकांड में नया मोड़ आ गया है, परिजनों ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए हैं

मुजफ्फरनगर। बुधवार देर रात थाना मंसूरपुर क्षेत्र के गांव घासीपुरा जंगल में एक मकान में बदमाशों की मौत के मामले में नया मोड़ आ गया है। एक मृतक के परिजनों का आरोप है कि पुलिस उनके बेटे को घर से उठा कर ले गई थी। आरोप है कि पुलिस वाले केस खत्म करने के लिए लंबे समय से रिश्वत मांग रहे थे। आरोप है कि उनके बेटे को घर से उठाकर मार डाला गया।

मिले थे तीन शव

बुधवार रात को घासीपुर जंगल में पुलिस पर की गयी फायरिंग के बाद एक मकान की छत से 3 बदमाशों के शव मिले थे। पुलिस का कहना था कि तीनों बदमाशों ने खुद को आपस में गोली मारी है। अब पुलिस कह रही है कि चार बदमाश थे जिसमें से एक ने तीनों को मारा और पुलिस पर फायरिंग करते हुए फरार हो गया। मारे गए तीन बदमाशों में से दो की पहचान हो गई है।

दो की हुई पहचान, परिजनों ने बताया सच

एक की शनाख्त सचिन पुत्र ओमकार निवासी बदरखा जनपद बागपत और दूसरे मृतक की गौरव स्योरान पुत्र त्रिलोक चंद निवासी मल्हेंडी जनपद शामली के रूप में हुई है। मामले में मृतक गौरव के पिता त्रिलोक चंद का कहना है कि बुधवार दोपहर के समय पुलिस वाले गौरव को घर से ये कहकर लाये थे कि उसे जल्दी छोड़ देंगे। हम उसका इंतजार करते रहे लेकिन शाम तक भी पुलिस का कोई फोन नहीं आया और सुबह हमें पता चला कि उसे मार दिया गया।

एलएलबी कर रहा था गौरव

गौरव घटना स्थल वाले मकान में कैसे पहुंचा? इस पर उसके पिता कहते हैं कि वह हमारे पास घर पर ही रहता था। पुलिस ने पहले भी उस पर मुकदमे लगा रखे हैं। बीए के बाद वह एलएलबी की पढ़ाई कर रहा था। लेकिन पुलिस वालों ने उसे बीए करने के बाद ही बदमाश बना दिया। पिता का कहना है कि वह बहुत भला लड़का था और पूरे गांव में कोई उसकी बुराई नहीं करेगा, वह सभी के पैर छूकर राम—राम करते हुए चलता था।

मांगी थी रिश्वत

आरोप है कि पुलिस ने गौरव पर पहले से ही 8-10 मुकदमे दर्ज कर रखे हैं। पिता के अनुसार कुछ दिन पहले पुलिस वालों ने आकर बताया था बुढ़ाना पुलिस के दरोगा ने एक मुकदमे को खत्म करने के नाम पर 20 हजार रुपये मांगे थे। आरोप है कि अब तक तीन दरोगा केस खत्म करने के एवज में बीस—बीस हजार की मांग कर चुके थे। उन्होंने अन्य दो मृतकों के बारे में जानकारी होने से इनकार किया है।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे