Patrika Hindi News

> > > > Jago Janmat, women said- Elections main Issues are Power, Crime and illiteracy

Photo Icon जागो जनमत: आधी आबादी ने भरी हुंकार, कहा- हमें क्राइम और अशिक्षा से मिले मुक्ति

Updated: IST jago janmat
आधी आबादी ने बताया सहारनपुर नगर विधानसभा सीट पर कौन-कौन से हैं मुद्दे

शिवमणी त्यागी, सहारनपुर। सहारनपुर नगर विधानसभा सीट का अधिकांश हिस्सा व्यापार और उद्योग से जुड़ा है और निर्भर है। सहारनपुर को विश्व पटल पर पहचान दिलाने वाला काष्ठ कला उद्योग इसी विधानसभा क्षेत्र में पड़ता है। सहारनपुर के मुख्य व्यवसायों से जुड़े उद्योग और व्यापारिक प्रतिष्ठान इसी नगर क्षेत्र में आते हैं। यह सीट मुस्लिम व पंजाबी बाहुल्य सीट है। इन्हीं दो समाज के वोटर यहां निर्णायक स्थिति में होते हैं। नगर विधायक सीट से विधायक राघव लखनपाल शर्मा काे सांसद चुन लिए जाने पर इस सीट पर उपचुनाव हुआ था और एक बार फिर से भाजपा ने ही इस सीट पर कब्जा जमाया था। इस बार वर्ष 2017 में चुनाव में भाजपा के साथ-साथ बसपा और सपा ही नहीं बल्कि कांग्रेस भी इस सीट पर अपनी पक्की जीत की दावेदारी कर रही है।

विश्व पटल पर पहचान है सहारनपुर के काष्ठ कला उद्योग की

लकड़ी के बेजान टुकड़ों में अपने हुनर के बल पर जान भर देने वाले हजारों कारीगर इसी विधानसभा क्षेत्र में रहते हैं। काष्ठ कला उद्योग से जुड़े छोटे मजदूर और कारीगरों से लेकर बड़े एक्सपोर्टर का कारोबार इसी विधानसभा क्षेत्र में फैला है। इस विधान सभा में छोटे बड़े करीब तीन हजार उद्योग और कारखाने हैं। व्यापारियों का गढ़ भी इसी विधानसभा क्षेत्र में है और देश के कोने-कोने तक विख्यात और अपनी पहुंच रखने वाला सहारनपुर का हौजरी व्यापार भी इसी विधान क्षेत्र में आता है।

विधानसभा पर एक नजर

कुल वोटर- 3,49364
पुरुष वोटर- 1,90,567
महिला वोटर- 1,58770
नगर विधानसभा क्षेत्र की दस प्राथमिकताएं

1. गरीब मोहल्लों में पानी की निकासी और जलापूर्ति
2. जिला अस्पताल में चिकित्सा सुविधाआें में सुधार
3. शहर में हर दिन लगने वाले जाम से मुक्ति मिले
4. शहर में एक विश्वविद्यालय की स्थापना बेहद जरूरी
5. छेड़छाड़ की घटनाएं रोकने के लिए सटीक पुलिसिंग
6. शहरभर में हो चुके अवैध कब्जे और अतिक्रमण हटें
7. काष्ठ कला उद्योग के लिए अलग से विकसित बाजार
8. शहर में बिजली आपूर्ति में सुधार और अंडर ग्राउंड तारें
9. शहर की सड़कों का सुधार और पानी निकासी की व्यवस्था
10. आए दिन होने वाले अपराध पर लगे अंकुश

महिलाओं और छात्राओं का ये है चुनाव घोषणा पत्र

नगर सीट पर आधी आबादी यानि महिलाओं के वोट कम नहीं है। बावजूद इसके आधी इस आधी आबादी को पुरुष प्रधान मानसिकता के चलते चुनावी मुद्दों में उतनी अहमियत नहीं दी जाती, जितनी की उन्हें मिलनी चाहिए और जितना की उनका हक भी है। यही कारण है कि हमने नगर विधानसभा सीट पर सबसे पहले आधी आबादी यानि महिलाओं और छात्राओं के साथ हर वर्ग और अलग-अलग कार्य क्षेत्रों से जुड़ी महिलाओं से बातचीत की और उनसे उनके मुद्दे पूछें। आधी आबादी ने कुछ इस तरह से अपनी प्राथमिकताएं गिनाई।

रंजना नैब

कलाकार और अध्यापिका रंजना नैब मानती है कि सहारनपुर नगर विधानसभा क्षेत्र में सबसे बड़ा मुद्दा शिक्षा का है। शहर में अच्छे सरकारी स्कूल खुलने चाहिए ताकि हर वर्ग अपने बच्चों का बेहतर शिक्षा दिला सके। अपराध भी एक बड़ा मुद्दा नगर क्षेत्र में पिछले पांच सालों में बन गया है। विशेषकर महिलाओं और सीनियर सिटीजन की सुरक्षा का बेहतर प्लान तैयार होना चाहिए।

बरखा

जाटवनगर निवासी छात्रा बरखा मानते हैं कि शहर में सफाई व्यवस्था और बेहतर शिक्षा प्रणाली भी चुनावी मुद्दा हो। बरखा कहती हैं कि शहर की हर सड़क और हर बाजार में कूड़ा पड़ा रहता है। हर दिन जाम लगता है और स्कूलों महाविद्यालयों में अध्यापक तक पूरे नहीं हैं। युवा पीढ़ी को जब पूरी और बेहतर शिक्षा ही नहीं मिलेगी तो उनकी सोच कैसे विकसित होगी।

पिंकी सैनी

बजडगांव क्षेत्र से हर रोज शहर में पढ़ने के लिए आने वाली पिंकी सैनी इन दिनों कोर्ट रोड स्थित मैजिकॉन इंस्टीट्यूट से कोचिंग ले रही हैं। इनका कहना है कि शहर की सड़के ठीक नहीं है। शिकायत करने पर पुलिस तुरंत सुनवाई नहीं करती। गांव देहात से शहर आने के लिए बड़ी समस्या हैं और यातयात के साधन नहीं हैं। ये छोटे-छोटे मगर सभी को प्रभावित करने वाले मुद्दे भी चुनावी मुद्दे बनने चाहिए।

रितु सिंह

आईटीसी रोड पर रहने वाली छात्रा रितु सिंह का कहना है कि शहर में 24 घंटे बिजली होनी चाहिए। बिजली नहीं होने से भारी परेशानी उठानी पड़ती है। सड़कों पर दिनभर जाम रहता है और विश्वविद्यालय नहीं होने की वजह से सहारनपुर की युवा पीढ़ी को पड़ोसी शहरों या फिर राज्यों का रुख करना पड़ता है। लड़के तो चले जाते हैं लेकिन लड़कियों को घरवाले नहीं भेजते और उनकी पढ़ाई छूट जाती है ये मुद्दे चुनावी मुद्दे होने चाहिए।

खुशनूर

पीर वाली गली की रहने वाली छात्रा खुशनूर मानती है कि सहारनपुर विधानसभा क्षेत्र में बढ़ता अपराध बड़ा मुद्दा है। इस बार विधानसभा चुनाव में अपराध मुक्त सहारनपुर मुद्दा होना चाहिए। महिलाओं की समस्याओं का त्वरित समाधान होना चाहिए। सड़के अच्छी हों और खटारा वाहन विशेषकर टेंपुओं को बंद कराया जाए।

रितु

न्यू दुर्गापुरी कॉलोनी में रहने वाली रितु अध्यापिका हैं। उनके मुताबिक सहारनपुर में बिजली आपूर्ति और बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं सबसे बड़ा मुद्दा हैं। यह मुद्दा इस बार चुनावी मुद्दा बनना चाहिए। महिलाओं के लिए अलग से विभाग हों और सुरक्षित बाजार भी होने चाहिए। आए दिन महिलाओं से चेन लूट ली जाती हैं और घर में भी महिला अपराध के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। ये मुद्दे ही चुनावी मुद्दे होने चाहिए।

नेहा कांबोज

छात्रा नेत्री सहारनपुर नगर विधानसभा सीट पर अपराध और विशेषकर महिला अपराध बड़ा मुद्दा है। आए दिन महिलाओं पर अपराध बढ़ रहा है जिससे महिलाओं में असुरक्षा की भावना घर कर रही है। कुछ ऐसे इंतजाम होने चाहिए, जिनसे आधी आबादी में सुरक्षा का विश्वास मजबूत हो। सहारनपुर विश्वविद्यालय की स्थापना भी एक बड़ा मुद्दा है। यह भी चुनावी मुद्दा बनना चाहिए।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे