Patrika Hindi News

खीर पूड़ी, हलवे की अपेक्षा बच्चों को मिले कड़ी-चावल

Updated: IST Neemuch
कहीं नहीं पहुंचे बच्चे, कहीं नहीं चला रेडियो, ठंड की वजह से प्रभावित हुई उपस्थिति

नीमच। कहीं दर्ज संख्या से बहुत कम, तो कहीं आधे बच्चे ही विद्यालय पहुंचे, कहीं रेडियो पर आवाज कम सर्राटे अधिक, तो कहीं ठंड के कारण धूप तो कहीं बंद कमरों में सूर्य नमस्कार का आयोजन करवाया गया, लेकिन आश्चर्य की बात तो यह रही की बच्चों को विशेष भोजन की जगह कड़ी चावल परोस दिए गए।

जानकारी के अनुसार 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद के जन्मदिवस को युवा उत्सव के रूप में मनाया गया। इस अवसर पर जिलेभर के शासकीय विद्यालयों में सूर्य नमस्कार का आयोजन किया गया। इसमें भोपाल में आयोजित राज्यस्तरीय कार्यक्रम के अनुसार रेडियो पर दिए जा रहे निर्देशों के तहत शालाओं में आयोजन करवाने थे, लेकिन जिला मुख्यालय की कुछ शालाओं में रेडियों नहीं था, तो कुछ में होने के बावजूद भी आवाज कम सर्राटे अधिक आने के कारण शिक्षकों द्वारा अपने स्तर पर सूर्य नमस्कार सहित अन्य आयोजन करवाए गए।

विद्यालयों में दर्ज संख्या से बहुत कम पहुंच बच्चें

किसी भी पर्व या आयोजन पर बच्चों को मध्यान्ह भोजन में विशेष प्रकार का भोजन दिया जाता है। इसमें बच्चों को खीर पुड़ी, हलवा पुड़ी या अन्य कोई स्वादिष्ट भोजन दिया जाता है। लेकिन गुरुवार को विशेष आयोजन के दिन भी बच्चों को कड़ी चावल परोसे गए, जबकि विशेष दिनों में बच्चों को उत्साह रहता है कि आज कुछ विशेष भोजन बनकर आएगा। वही पिछले तीन चार दिनों से बड़ी ठंड का असर गुरुवार को इस विशाल आयोजन में भी नजर आया, क्योंकि जिला मुख्यालय के अधिकतर विद्यालयों में दर्ज संख्या से बहुत कम बच्चे पहुंच पाए। इसमें नीमच सिटी रोड स्थित माध्यमिक विद्यालय क्रमांक 1 के हालात सबसे दयनीय थे, यहां पत्रिका टीम जब सुबह 9 बजे पहुंची तो दर्ज 29 बच्चों में से मात्र एक बच्चा पहुंचा था। वहीं इस विद्यालय के तीन शिक्षक में से एक भी शिक्षक (अवकाश या अन्य कारणों से) उपस्थित नहीं होने के कारण सिंधी शाला प्रधान को पहुंचकर सूर्य नमस्कार करवाना पड़ा। इसी प्रकार शासकीय प्राथमिक विद्या मंदिर यादव मंडी में 114 में से 80 बच्चे, प्राथमिक विद्यालय अयोध्या बस्ती में 96 में से 40 बच्चे ही स्कूल पहुंच पाए।

माध्यमिक विद्यालय क्रमांक 1 के शिक्षक अवकाश पर होने के कारण सूर्य नमस्कार का आयोजन करवाने में मेरी ड्यूटी लगाई गई थी। मैं पहुंचा तो यहां पर मात्र एक बच्चा पहुंचा था, मैंने अपनी ओर से पूर्ण प्रयास कर बच्चों को बुलवाया।

- हिम्मतसिंह जैन, शाला प्रधान सिंधी शाला

सभी शालाओं में सूर्यनमस्कार का आयोजन करवाने सहित संबंधितों को इस दिन विशेष भोज कराने के निर्देश दिए गए थे, अगर विशेष भोजन विद्यालयों में नहीं पहुंचा है तो हम इसी जांच करवाकर संबंधित से जवाब मांगेंगे।

- केएम सोलंकी, सहायक परियोजना समन्वयक

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???