Patrika Hindi News

> > > > 5 shooter arrest of Sunderbati gang Samajwadi party candidate had planned to kill

सुंदरभाटी गैंग के 5 शूटर ​अरेस्ट, सपा प्रत्याशी समेत छह लोगों की हत्या का था प्लान

Updated: IST sharp shooter
पांच शूटरों को यूपी एसटीएफ ने दबोच लियाहत्या करने से पहले

नोएडा। सपा विधानसभा प्रत्याशी समेत छह लोगों की हत्या का प्लानिंग कर रहे सुंदर भाटी गैंग के पांच शूटरों को यूपी एसटीएफ ने दबोच लिया। अगर एसटीएफ ने बदमाश को एक दिन पहले नहीं गिरफ्तार करती। तो बदमाश अगले ही दिन विधानसभा प्रत्याशी के पति हरेंद्र की हत्यारोपी को कस्टडी से भगाने वाले थे।

पुलिस गिरफ्त में आए पांचों आरोपी सकि्रय अपराधी हैं। पुलिस ने आरोपियों के पास से लूटी हुर्इ कार, सोने की चेन, पिस्टल आैर कारतूस बरामद किए हैं। पुलिस बदमाशों से पूछताछ कर उनके अन्य फरार साथियों का पता लगाने में जुटी है।

पुलिस पूछताछ में आरोपी शूटरों की पहचान हरिया पवन, बंटी शर्मा, आजाद, गोली ऊर्फ अनिल, ब्रजेश शर्मा के रूप में हुई है। हरिया का अपने साथियों के साथ बुधवार को हरेन्द्र प्रधान, दादपूर हत्याकांड में जेल में बंद कालू भाटी को पुलिस कस्टडी से भगाने का प्लान था। कालू भाटी, सुंदर भाटी गैंग का सक्रिय अपराधी है। कालू को भगाने के बाद अंकित गुर्जर को पुलिस कस्टडी से भगाने की योजना थी।

आधा दर्जन लोगों की हत्या का था प्लान

पूछताछ में बदमाशों ने बताया कि इसके बाद 25 सितंबर को नरोली प्रधान ज्ञानेंद्र की हत्या का प्लान था। उसके बाद हरेन्द्र दादपुर की हत्या की पैरवी कर रहे, उसके भाई रवि और पत्नी बेवन नागर (जो सपा विधायक प्रत्याशी हैं) की हत्या करने की योजना थी। यही नहीं विजय पंडित हत्याकांड के वादी जो वकील भी है उनकी हत्या की प्लानिंग कर रखी थी। इसके अलावा हरिया अपने गांव में रंजिश के चलते एक डबल मर्डर भी करना चाहता था। हरिया बेहद खतरनाक अपराधी है और इस पर हत्या, हत्या के प्रयास, लूट, रंगदारी जैसे 30 से अधिक मुकदमें दर्ज हैं।

ये है इनका आपराधिक इतिहास

हरिया ने अपने इन्हीं साथियों के साथ दिल्ली, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और बागपत में 12 से अधिक लूट पिछले तीन महीनों में की है। इनके कब्जे से लूटी हुई कार, बाइक, दस मोबाइल, गोल्ड चेन (2 तोला) मिली।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे