Patrika Hindi News
UP Election 2017

अखिलेश-मुलायम पर बनी 'फिल्‍म' बाइसिकिल थीव्‍स 

Updated: IST bicycle thieves
वायरल हो रहा मूवी पोस्टर, शिवपाल और अमरसिंह को बताया लेखक

नितिन शर्मा, नोएडा। समाजवादी पार्टी में मचे आपसी घमासान का मजा अन्य पार्टी ही नहीं बल्कि जनता भी ले रही है। यही कारण है कि सपा के विवाद के रंग रूप बदलते ही उनके नाम अौर फोटो लगाकर एडिटेड फिल्मी पोस्टर वायरल हो रहे हैंं। 'दंगल' के बाद बाप-बेटे में पार्टी चिन्ह साइकिल को लेकर चल रही खींचतान पर एक आैर एडिटेड फोटो वाॅट्सएेेप से लेकर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

समाजवादी पार्टी में बाप-बेटे मुलायम सिंह आैर अखिलेश में पार्टी चिन्ह को लेकर चल रहे विवाद पर एक मूवी पोस्‍टर बन गया है। इसका पोस्टर BICYCLE THIEVES के नाम से वायरल हो रहा है। इसे एडिट कर बिल्कुल एक मूवी के पोस्टर की तरह बनाया गया है। इसके साथ ही मूवी के नाम की तरह इसका नाम भी BICYCLE THIEVES लिखा गया है। साथ ही हिंदी में पोस्टर पर लिखा गया हमारी साइकिल कहा बा।

इस मूवी में ये निभा रहे किरदार

इन दिनों सोशल साइट पर वायरल हो रहे मूवी पोस्टर में फिल्म का नाम अंग्रेजी में लिखा गया है BICYCLE THIEVES। इसके साथ ही मूवी के लेखक की जगह रामगोपाल आैर अमर सिंह का नाम लिखा गया है। वहीं, पोस्टर में फिल्म का प्राेड्यू्सर मुलायम आैर अखिलेश को दिखाया गया है। पोस्टर में दोनों बाप-बेटों का बहुत ही स्टाइलिश फोटो भी लगा है। इसके साथ ही इसमें म्यूजिक में शिवपाल आैर पूरी पिक्चर का डायरेक्टर आजम खां को बताया गया है। डायरेक्ट बाय में उनका नाम लिखा गया है।

केजरीवाल के बाद सपा को बताया सबसे ज्यादा ड्रामेबाज

एडिटेड फिल्मी पोस्टर में अंग्रेजी में लिखा गया है, समाजवादी ड्रामा। इसके साथ ही इस पार्टी को सबसे बड़ी आैर ज्यादा नौटंकीबाज पार्टी लिखा गया है। इतना ही नहीं एडिट करने वाले शख्स ने इस पोस्टर में साफ शब्‍दों में लिखा है कि केजरीवाल के बाद सबसे ज्यादा ड्रामेबाज पार्टी समाजवादी पार्टी है।

bicycle thieves
(फिल्‍म का असली पोस्‍टर)

क्‍या है हकीकत

'बाइसकिल थीफ' एक इटैलियन मूवी थी, जिसका निर्देशन वीट्टोरीयो डी सीका ने किया था। यह फिल्म 1948 में बनाई गई थी। फिल्म वर्ल्ड वार—2 के बाद देश में बनी स्‍थिति पर आधारित है। वर्ल्ड वार—2 के बाद लोग बेरोजगार हो जाते हैं। वहीं ​इस फिल्म की मेन कहानी साइकिल चोरी के इर्द-गिर्द घूमती है। जहां एक गरीब पिता अपने बेटे के साथ अपनी चोरी हो गई साइकिल की तलाश करता रहता है। इस फिल्म में पिता और बेटे के प्रेम, स्नेह और शानदार एक्टिंग को भी दिखाया है। वहीं, अब इस फिल्म के पोस्टर को वर्तमान में यूपी राजनीति पर चरितार्थ किया गया है। जहां समाजवादी परिवार में एक साइकिल ​सिंबल को लेकर पिता-पुत्र आमने-सामने हैं।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???