Patrika Hindi News

> > > > Exodus of Hindu families from Kairana but BJP Giving communal said chakrapani maharaj

'कैराना मामले को भाजपा दे रही है सांप्रदायिक रंग'

Updated: IST swami chakrapni
चक्रपाणि महाराज ने मानवाधिकार आयोग की रिपोर्ट के बाद भाजपा पर लगाए गंभीर आरोप

नई दिल्ली/नोएडा। कैराना से हिंदुओं के पलायन का मुद्दा एक बार फिर गरमाता जा रहा है। भाजपा द्वारा इस मामले को फिर से उठाने की खबरों के बीच हिन्दू महासभा ने कहा है कि भाजपा इस मामले को सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश कर रही है। जबकि यह शुद्ध रूप से कानून एवं व्यवस्था का मामला है।

कैराना का मुद्दा एक बार फिर तब सुर्खियों में आ गया, जब राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने अपनी जांच रिपोर्ट में यहां से हिंदुओं के पलायन को सही पाया। इसके बाद भाजपा ने मांग की कि जो लोग उनके इस मामले को झूठ करार दे रहे थे। उन्हें अब सामने आकर अपनी सफाई देनी चाहिए और देश से माफी मांगनी चाहिए।

स्वामी चक्रपाणि ने कहा

हिन्दू महासभा के अध्यक्ष स्वामी चक्रपाणि ने पत्रिका से कहा कि वे इस बात को पूरी तरह स्वीकार करते हैं कि कैराना से हिन्दू परिवारों का पलायन हुआ है, लेकिन उनके अनुसार यह बात पूरी तरह से गलत है कि ऐसा साम्प्रदायिक आधार पर हुआ है। उन्होंने कहा कि दरअसल यह पूरी तरह कानून-व्यवस्था का मसला है। जिसे भाजपा अपने राजनीतिक हित के लिए सांप्रदायिक रंग दे रही है।

हिन्दू संत ने कहा कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग की रिपोर्ट अपनी जगह पूरी तरह सही है। उन्होंने कहा कि जब उनके साथ हिन्दू संतों के एक प्रतिनिधि मण्डल ने कैराना के दौरे के बाद अपनी रिपोर्ट दी थी। तब उसमें इससे भी ज्यादा कड़ी बात कही गयी थी। उन्होंने कहा कि उनके प्रतिनिधि मंडल ने अपनी रिपोर्ट में इसके लिए कुछ स्थानीय अपराधियों और स्थानीय प्रशासन को जिम्मेदार माना था। इसके लिए जिम्मेदार लोगों को कड़ा दण्ड देने की बात भी कही गयी थी।

मुस्लिम अपराधियों के कारण हुआ पलायन

चक्रपाणि महाराज के अनुसार कैराना क्षेत्र से हिंदुओं का पलायन चंद अपराधियों की वजह से हुआ है। यह संयोग ही कहा जा सकता है कि यहां सक्रिय सभी अपराधी मुस्लिम हैं। जिसकी वजह से भाजपा को इसे सांप्रदायिक रंग देने का अवसर मिल गया। उन्होंने कहा कि सच तो यह है कि बेहतर रोजगार और जीवन स्तर की तलाश में उस जगह से मुस्लिमों ने भी पलायन कर लिया है। ऐसे में इसे सांप्रदायिक रंग देकर सामाजिक सद्भाव को बिगाड़ने की कोशिश नहीं होनी चाहिए।
उन्होंने कहा कि फुरकान काजी और मुकीम काला जैसे चन्द अपराधी हैं। जिन्हें समाजवादी पार्टी के स्थानीय विधायक का संरक्षण हासिल है, जिनकी बदौलत क्षेत्र में इस तरह के अपराध हुए हैं। इन अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

इन हिन्दू सन्तों ने किया था कैराना का दौरा

कैराना के सांसद हुकुमदेव सिंह ने कैराना से हिंदुओं के पलायन का मुद्दा उठाया था। इसके बाद इस मामले को लेकर बहस तेज हो गयी थी। भाजपा ने इसके लिए प्रदेश सरकार को जिम्मेदार ठहराया और उस पर मुस्लिमों के गलत आधार पर संरक्षण देने के आरोप लगाया।

इसी के बाद हिन्दू सन्त स्वामी चक्रपाणि महाराज के नेतृत्व में पांच सन्तों ने कैराना का दौरा किया। इनमें आचार्य प्रमोद कृष्णन, स्वामी देवेंद्रानन्द जी महाराज और स्वामी कल्याणदेव जी महाराज शामिल थे। इसके आलावा कभी भाजपा के सांसद रहे स्वामी चिन्मयानन्द महाराज भी इस प्रतिनिधि मण्डल के हिस्सा थे। प्रतिनिधि मण्डल ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि कैराना से हिंदुओं का पलायन तो हुआ है लेकिन इसके लिए सांप्रदायिक आधार नहीं है, बल्कि ऐसा कानून-व्यवस्था के कारण हुआ है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे