Patrika Hindi News

ये फिल्म बनी तो मायावती बैठ जाएंगी धरने पर 

Updated: IST Mayawati
सेंसर बोर्ड के मेंबर अजय गुप्ता से खास बातचीत, कहा- फिल्म इंडस्ट्री में बढ़ गया है पॉलिटिकल इंटरफेयरेंस

सौरभ शर्मा, नोएडा। ऐ दिल है मुश्किल फिल्म को लेकर मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। जहां एक ओर मुंबई में विरोध अपने चरम पर पहुंच चुका है। वहीं यूपी में इसकी चिंगारी आग का रूप लेने को मचल रही है। इस बारे में जब सेंसर बोर्ड के मेंबर से बात की गई तो उन्होंने कहा कि सिनेमा लाइन भी अब पॉलिटिक्‍स में फंस गई है। कभी जाति और बिरादरी के नाम पर तो कभी धर्म के नाम पर कोई ना कोई इश्यू खड़ा किया जाने लगा है। फिल्में पहले भी बनती थी, लेकिन पहले कभी इस तरह का माहौल नहीं होता था।

आज ये फिल्म बनी तो बसपा कर देगी विरोध

वेस्ट यूपी से सेंसर बोर्ड के मेंबर अजय गुप्ता ने खास बातचीत में कहा कि पहले एक फिल्म बनी थी। जिसका नाम था अछूत कन्या। ये फिल्म एक दलित महिला पर निर्धारित थी। आज इस तरह की कोई फिल्म बने तो बहुजन समाज पार्टी विरोध करेगी। मायावती धरने पर बैठ जाएंंगी। अब हम फिल्म की कहानी अपने घर से तो लिखते नहीं हैंं, लेकिन हम एक चीज जो सेंटीमीटर में है उसे सवा सेंटीमीटर कर लेते हैं वो भी स्टोरी की डिमांड के अनुसार। इंटरटेंमेंट के लिए। क्या आज के समय में अछूत कन्या नहीं है? क्या आज इस फिल्म को नहीं बनाई जा सकती है? बनाई जा सकती है। लेकिन फिल्म का विरोध होगा।
पोस्टर को देखकर दर्शक सिनेमा में आना चाहिए

पाकिस्तानी कलाकारों को बॉलीवुड की फिल्मों में कास्ट करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि फिल्मों में कलाकार किसी भी देश का हो, लेकिन बात तभी बनती है जब फिल्म के पोस्टर को देखकर पब्लिक सिनेमाहॉल में आए। अगर कलाकर का फेस देखकर सिनेमा हॉल भरते हैं तो उससे अच्छी कोई बात नहीं है। फिर वो किसी भी देश का हो। सिनेमा हॉल और प्रोड्यूसर लाखों करोड़ों रुपए लगाता है उसे अपनी रिकवरी भी तो चाहिए।

प्रोड्यूसर्स को इस पर सोचना होगा

अजय गुप्ता कहते हैं कि पाकिस्तानी कलाकरों को बॉलीवुड की फिल्मों में लेने या ना लेने के फैसले पर प्रोड्यूसर बेहतर सोच सकते हैं। मेरा ये मानना है कि इंडियन प्रोड्यूसर्स को अपनी फिल्मों में पाकिस्तानी कलाकारों को लेना बंद कर देना चाहिए। उन्हाेंने कहा हमारे देश में कलाकारों की कोई नहीं है। जब पाकिस्तान इंडियन फिल्मों को वहां चलाने से इनकार कर रहा है तो हमारे प्रोड्यूसर्स को पाकिस्तान में अपनी फिल्म बेचना बंद कर देना चाहिए। दूसरी बात जो मनोरंजन हमारी फिल्मों में हैं वो पाकिस्तान फिल्मों में बिल्कुल भी नहीं है। जो हम दिखा सकते हैं वो पाकिस्तान बिल्कुल भी नहीं दिखा सकता है। प्रोड्यूसर ये पहल करें वहां अपनी फिल्म नहीं देंगे और घोषणा करें कि वहां के कलाकरों को काम नहीं देेंगेे।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???