Patrika Hindi News

खुद को केंद्र सरकार में अधिकारी बता युवक काे लगाई 26 लाख रुपए की चपत

Updated: IST cyber crime
पीड़ित ने सेंटर फॉर साइबर क्राइम इंवेस्टिगेशन में दर्ज कराई शिकायत

नोएडा. खुद को केंद्र सरकार के राजस्व विभाग का बड़ा अधिकारी बताकर ठग ने एक युवक से पॉलिसी के नाम पर 50 लाख की पेमेंट दिलाने का लालच देकर 26 लाख रुपए ठग लिए। पीड़ित से कई बार में दो खातों में रुपए जमा कराए गए। मामले की शिकायत पीड़ित ने सेंटर फॉर साइबर क्राइम इंवेस्टिगेशन (सीसीसीआई) सेक्टर-6 में की है।

यह भी पढ़ें- EXCLUSIVE योगी के मंत्री के घर के सामने निर्माणाधीन जेल की दीवार काटकर लाखों का सरिया की चोरी

मूलरूप से शिवपुरी मध्य प्रदेश निवासी चंद्रकांत निगम सेक्टर-20 में रहते हैं। सीसीसीआई को सौंपे शिकायती पत्र में उन्होंने बताया कि बीती 17 मई को राकेश कुमार बोरा नामक शख्स का उनके पास फोन आया। उन्होंने खुद को केंद्र सरकार में राजस्व विभाग का बड़ा अधिकारी बताया। साथ ही कहा कि उनकी एक वर्ष पुरानी पॉलिसी पेमेंट के लिए आई है जिसका वह उन्हें अतिरिक्त लाभ दिलवा सकते हैं।

पीड़ित चंद्रकांत ने जीवन बीमा की करीब पांच लाख की पॉलिसी काफी दिन पहले कराई थी। ऐसे में उन्हें लगा कि उनकी पुरानी पॉलिसी का लाभ उन्हें दिया जा रहा है। जिस पर वह विश्वास कर बैठे। बोरा ने पीड़ित को बताया कि वह सारी पॉलिसी को जोड़कर बताएंगे कि कितना अमाउंट हो रहा है। इसके लिए उन्हें टैक्स के रूप में 45 हजार 500 रुपए एफएनएफ सॉल्यूशन के ओबीसी आजादपुर दिल्ली स्थित बैंक खाते में जमा कराने होंगे।

यह भी पढ़ें- सहारनपुर में कांवड़ यात्रा के दौरान भोले के खिलाफ मुकदमा दर्ज

इस तरह ठग के झांसे में आकर पीड़ित ने 18 मई को साढ़े 45 हजार रुपए जमा करा दिए। उसी दिन फिर से रात में पीड़ित के पास ठग का फोन आया कि टैक्स के रूप में चार लाख 6 हजार रुपए जमा कराने होंगे, जो आपको फाइनल भुगतान के समय रिफंड हो जाएंगे। ऐसे में पीड़ित ने झांसे में आकर 19 मई को इतनी रकम न्यू अर्बन कोऑपरेटिव बैंक लि. मुरादाबाद के खाते में जमा करा दी। इसी तरह ठग के साथी कई लोगों ने 18 मई से 6 जून के बीच कई बारी में कुल 26 लाख 6 हजार रुपए अलग-अलग खातों में जमा करा लिए।

2 जुलाई को दोबारा आया फोन तो हुआ शक

2 जुलाई को ठग ने पीड़ित को जीएसटी बिल लागू होने का झांसा देकर अभय पाण्डेय के खाते में चार लाख 80 हजार रुपए जमा कराने को कहा, लेकिन अब पीड़ित को समझ में आने लगा कि वह ठगी का शिकार हो रहे हैं। ऐसे में पीड़ित ने रकम जमा कराना बंद कर दिया। शातिर ठग अब भी पीड़ित को मैसेज एवं फोन कर खातों में रुपए जमा कराने के लिए कह रहे हैं। ठगी का शिकार हुए पीड़ित ने साइबर सेल में मामले की शिकायत की है। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???