Patrika Hindi News
Bhoot desktop

अखिलेश की 'जीत की चाबी, डिंपल भाभी'

Updated: IST akhilesh yadav
सपा के नारों में छाए हुए हैंं अखिलेश और डिंपल यादव

शरद अस्‍थाना, नोएडा।यूपी में विधानसभा चुनाव के लिए संग्राम तेज हो गया है। सपा और बसपा अपने प्रत्‍याशी भी घोषित कर चुकी हैं। भाजपा की लिस्‍ट भी जल्‍दी ही जारी होने वाली है जबकि कांग्रेस गठबंधन के इंतजार में बैठी है। जहां प्रत्‍याशी चुनाव प्रचार और लिस्‍ट में नाम जुड़वाने की जुगत में लगे हुए हैं, वहीं उनके समर्थक अपनी पार्टी के समर्थन में ऐसे नारे लगा रहे हैं, जो जनता के बीच लोकप्रिय हो रहे हैंं।

भाजपा के हमले

सभी दलों ने चुनावी समर में खुद को आक्रामक बनाकर हमले भी तेज कर दिए हैंं। एक-दूसरे को पटखनी देने के लिए सभी दल तीखे नारों के साथ उतर रहे हैं। चुनावी सभाओं के कार्यक्रम तो तेज हो गए हैं, वहीं चुनावी नारे भी बदल-बदलकर आ रहे हैं। अगर भाजपा के नारों पर नजर डालेंं तो सपा में चल रही कलह पर भी हमला बोला गया है। 'बाप-बेटे के ड्रामे हजार, नहीं चाहिए सपा सरकार' आजकल खूब चलन में है। वहीं, भाजपा का एक गाना बहुत ही लोकप्रिय है। वह है, 'परिवर्तन लाएंगे, कमल खिलाएंगे'। सपा के गुंडाराज और बसपा के भ्रष्टाचार पर हमला करते हुए यह नपारा भी दिया, 'ना गुंडा राज, ना भ्रष्टाचार, अबकी बार भाजपा सरकार'। चुनाव में भले ही भाजपा यूपी में मोदी का चेहरा इस्‍तेमाल कर रही हो लेकिन उसका लोकसभा चुनाव का नारा बदल गया है। आम चुनाव मेंं जहां भाजपा का नारा था, 'अबकी बार, मोदी सरकार', जो बदलकर 'अबकी बार भाजपा सरकार' हो गया है।

सपा में अखिलेश ही अखिलेश

सपा में कलह के बावजूद कई नारे सुनने को मिल रहे हैं। कई नारे नए हैं तो कुछ पुराने मशहूर नारों को बदलकर उन्हें नए शब्द दिए गए हैं। सपा ज्यादातर नारे सीएम अखिलेश यादव के इर्द-गिर्द की लिखे गए हैं। अखिलेश के युवा समर्थक 'ये जवानी है कुर्बान, अखिलेश भैया तेरे नाम' का नारा लगाते देखे जा सकते हैं। वहीं, 'काम बोलता है' और 'विकास का पहिया अखिलेश भैया' नारा भी जुबान पर है। सपाई डिंपल यादव के नाम भी नारे लगा रहे हैं, 'जीत की चाबी, डिंपल भाभी'। अभी हाल ही में वायरल हुए एक वीडियो का एक नारा 'मैं अखिलेश बोल रहा हूंं, विकास के पथ खोल रहा हूंं'।

बसपा का वार

सूबे की दूसरी बड़ी पार्टी बसपा ने भी चुनाव को लेकर अपना वीडियो सांग सिंहासन पर माया बहन जनता के बीच पहुंचा दिया है। इसमें पार्टी ने युवाओं और आधी आबादी को अपनी ओर खींचने की कोशिश की है। वहीं, बसपा प्रत्‍याशी का कटाक्ष, 'खजानों को वो रद्दी समझकर बेच डालेगा, वो चंदन को अगरबत्‍ती समझकर बेच डालेगा और हुकूमत हमने चाय बेेचने वाले के हाथ में देेदी, वो भारत को चाय की पत्‍ती समझकर बेच डालेगा' भी खूब चर्चा में है। सपा पर पार्टी ने, 'चाचा भतीजे की सरकार बंद करो ये अत्याचार' के जरिये वार किया।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???