Patrika Hindi News

Video Icon महागुन सोसाइटी में मेड विवाद के बाद फल-सब्‍जी बेचने वालों के रोजगार पर चला प्राधिकरण का बुलडोजर

Updated: IST Mahagun
आसपास की सोसाइटी के लोगों ने जताया रोष, कहा- गरीब लोगों की दुकानों को उजाड़कर प्राधिकरण को क्या हासिल हुआ

नोएडा. शहर से अवैध अतिक्रमण को हटाने के आदेश के बाद सबसे पहली कार्रवाई महागुन सोसाइटी के सामने बनी अवैध दुकानों पर हुई है। माना जा रहा है कि मेड विवाद के चलते यहां से फल-सब्‍जी बेचने वालों पर नोएडा प्र‍ाधिकरण ने ये कार्रवाई की है। सोमवार सुबह अधिकारियों ने पुलिस बल की सहायता से सेक्टर-116 में बनी झुग्गियों पर बुलडोजर चला दिया। दरअसल, हाल ही में सुर्खियों में आई महागुन सोसाइटी के सामने करीब 100 एकड़ जमीन खाली पड़ी हुई है। जिस पर कुछ लोग सब्जी, फल आदि की दुकानें लगाते थे। यहां करीब 40-50 दुकानें थीं, जिन्हें आज तोड़ दिया गया। यहां मौजूद एक अधिकारी ने बताया कि ये सभी दुकानें अवैध रूप से यहां बनी हुई थी और शहर से अतिक्रमण हटाने के चलते ये कार्रवाई की गई है।

यही रोजगार था और अब यह भी नहीं रहा

प्राधिकरण द्वारा की गई इस कार्रवाई पर यहां दुकान लगाने वाले एक व्यक्ति ने कहा कि हमारे पास एक यही रोजगार था और वह भी सरकार ने तोड़ डाला। उन्होंने कहा कि अब हमारे इस नुकसान की भरपाई कौन करेगा? हम सभी गरीब लोग हैं और बड़ी मुश्किल से सब्जी बेचकर अपना और बच्चों को पालन-पोषण करते थे, लेकिन अब कहां से खाना खाएंगे?

Mahagun

महागुन मेगामार्ट के दुकानदारों पर लगाया कार्रवाई कराने का आरोप

राघव नामक दुकानदार ने बताया कि हमारी दुकानों को तोड़ने के पीछे सोसाइटी के दुकान वालों का हाथ है, क्योंकि सोसाइटी के लोग वहां से सब्जी लेने के बजाय हम लोगों से सब्जी ले जाया करते थे। वहीं इस जमीन पर मालिकाना हक का दावा करने वाली एक बुजुर्ग महिला ने बताया कि यह जमीन हमारी है और हमने इन गरीब लोगों को यहां दुकान लगाने के लिए दी हुई है। उन्होंने कहा कि जब हमें इसका मुआवजा नहीं मिला है तो फिर प्राधिकरण कैसे इन दुकानदारों को यहां से हटा सकता है।

Mahagun

आसपास की सोसाइटी के लोगों ने जताया रोष

एक सोसाइटी में रहने वाले एक बुजुर्ग ने बताया कि इन गरीब लोगों की दुकानों को उजाड़कर प्राधिकरण को क्या हासिल हुआ है। यह जमीन काफी समय से खाली पड़ी हुई है और अगर ये लोग इस पर दुकान लगा रहे हैं तो प्राधिरण को क्या परेशानी है। उन्होंने कहा कि हम लोगों को इन दुकानों से कई सुविधाएं हैं। इन्हीं लोगों से हम ताजी सब्जियां खरीद लेते हैं जो कि सोसाइटी स्थित दुकानों में नहीं मिल पाती।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???