Patrika Hindi News
UP Election 2017

नोटबंदी से हर रोज बढ़ रहा मौत का आंकड़ा, विरोध में उतरी सपा

Updated: IST samajwadi party
सपा कार्यकर्ताओं ने सड़कों पर विरोध प्रदर्शन करते हुए नोटबंदी को वापस लेने की मांग की

नोएडा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई नोटबंदी के बाद से विपक्ष उन पर हमला बोल रहा है। विपक्ष द्वारा भारत बंद आैर रैली निकालने के बाद गुरुवार को नोएडा में समाजवादी पार्टी के नेताआें ने इसका विरोध किया। पार्टी के नेताआें आैर कार्यकर्ताआें ने रैली निकालने के साथ ही चौराहों पर धरना प्रदशर्न कर सिटी मजिस्ट्रेट को राष्ट्रपति को नामित ज्ञापन सौंपा।

नोटबंदी वापस ले सरकारः सपा

समाजवादी पार्टी के महानगर अध्यक्ष समेत जिले के कर्इ नेताआें आैर कार्यकर्ताआें ने हल्ला बोल का नारा देते हुए सड़क पर प्रदर्शन किया। गुरुवार सुबह करीब साढ़े ग्यारह बजे समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने सेक्टर 19 से लेकर सिटी मजिस्ट्रेट के ऑफिस तक रैली निकालते हुए नोट बंदी का विरोध किया। पार्टी नेताओं ने बीएसएनएल चौराहे पर नोट बंदी के खिलाफ जाम लगाकर आक्रोश जाहिर किया। पार्टी के नेताआें ने कहा कि नोट बंदी से देश में हाहाकार मच गया है। गरीब तबके पर नोट बंदी का सबसे ज्यादा असर देखा जा रहा है। मजदूर से लेकर किसान भी नोट बंदी का शिकार हो रहे हैं। यही कारण है कि मजदूरों की मौत का आकड़ा दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है। इन्हीं सब आरोप नोटबंदी के फैसले को वापस लेने या व्यवस्था करने की बात कहते हुए। सभी नेता पैदल मार्च करते हुए सिटी मजिस्ट्रेट कार्यालय पहुंचे। यहां उन्होंने सिटी मजिस्ट्रेट को राष्ट्रपति के नाम पर ज्ञापन दिया।

व्यवस्था करें या फैसला वापस ले सरकार

ज्ञापन देते हुए सपा नेताआें ने मांग की कि या तो सरकार नए नोटों की व्यवस्था करे। जिससे लोग आराम से बैंकों से रुपया निकलाने के साथ ही अपने शादी समारोह आैर अन्य खर्च वहन कर सकें। अन्यथा ये नोटबंदी का फैसला वापस लिया जाए। महानगर अध्यक्ष राकेश यादव ने कहा कि सरकार ने बिना कोर्इ व्यवस्था किए नोटबंदी कर दी। इसका सीधा असर गरीब मजदूर आैर किसानों पर पड़ा है। लोगों को पूरे दिन बैंक के बाहर लाइन में खड़े होने के बाद भी खर्च तक के रुपये नहीं मिल पा रहे हैं। जिससे आए दिन मौत आैर लोगों के घर मातम छाया हुआ है।

अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???