Patrika Hindi News
Bhoot desktop

आप चाहें तो छोड़ सकते हैं शराब, मुफ्त में मिलती है दवा

Updated: IST no drink meerut
दो से तीन माह के बीच पूरी तरह छोड़ सकते हैं शराब

अमित शर्मा/नई दिल्ली/नोएडा. शराब पीने वालों से सिर्फ दूसरे लोग ही परेशान नहीं होते. एक समय ऐसा भी आता है जब कई शराब पीने वाले लोग खुद ही इसकी परेशानियों को समझने लगते हैं और इससे छुटकारा पाना चाहते हैं. लेकिन कई मामलों में वे खुद को शराब के सामने असहाय सा महसूस करते हैं और उन्हें लगता है कि वे अब शराब छोड़ ही नहीं सकते.

लेकिन कहते हैं कि इंसान की सोच अगर मजबूत हो तो वो कोई भी चीज हासिल कर सकता है. शराब छोड़ने की अगर आप मजबूती से सोच ही लें तो कोई वजह नहीं कि आप इसे न छोड़ सकें. सबसे हैरत वाली बात तो यह है कि इसके लिए आपको दवाई मुफ्त में भी मिल सकती है तो वहीं अगर आप किसी प्रॉफिशनल से ये काम करवाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको कुछ रकम खर्च करनी पड़ सकती है.

कैसे छूटेगी शराब

दरअसल ज्यादातर मामले में शराब पीने से हमें एक ख़ास रसायन एल्कोहल लेने की लत पड़ जाती है. जैसे सिगरेट के मामले में निकोटीन लेने की आदत पड़ जाती है, लेकिन जैसे सिगरेट छुड़ाने के लिए डॉक्टर आपको निकोटीन की कम मात्रा की डोज देना शुरू कर धीरे-धीरे सिगरेट छुड़वाता है, ठीक उसी प्रकार शराब की हालत में भी एल्कोहल की हल्की डोज की दवाईयों से ही शुरुआत की जाती है. इसकी कोशिश यह होती है कि शराब पीने वाले व्यक्ति को नशे जैसा कुछ एहसास होता रहे जिससे उसे शराब की कमी न खले. बाद में धीरे-धीरे उसे एल्कोहल की मात्रा कम कर दी जाती है. इसी बीच उसका ध्यान शराब से हटाकर उसकी अभिरुचि से जुडी कोई अन्य बात शुरू की जाती है जिससे वह उसमें अपना ध्यान लगा सके.

इन सबमें सके मनोबल को बनाये रखना बहुत जरुरी होता है. इसके लिए उसकी पत्नी, मां, पिता, दोस्त या बच्चे की भूमिका बहुत महत्त्वपूर्ण होती है. वे बीच-बीच में उसे यह कह कर उत्साहित करते रहते हैं कि आज उसने शराब नहीं पी हुई है, इसलिए वह बहुत अच्छा लग रहा है और उसके काम का प्रदर्शन पहले की तुलना में बहुत अच्छा हो रहा है. यह मानसिक बदलाव उसे खुद भी शराब के नुक्सान से दूर हटने के लिए प्रेरित करता है जिससे दो से तीन माह के बीच आदमी शराब पूरी तरह छोड़ देता है.

शराब छोड़ने की दवाएं

कई संस्थाएं ऐसा धर्मार्थ करती हैं और इसके लिए कोई शुल्क नहीं वसूलती हैं. लेकिन कुछ संस्थाएं या डॉक्टर इसके लिए कुछ फीस वसूलते हैं. शराब छोड़ने के लिए कई महत्त्वपूर्ण दवाइयों के नाम यहां पर दिए जा रहे हैं जो उपचार की प्रमुख पद्धतियों में प्रचलित हैं. (पत्रिका का आपसे अनुरोध है कि किसी भी दवा का स्वतः सेवन न शुरू करें, यह आपके स्वास्थ्य के लिए नुकसान देह हो सकता है. किसी भी दवा को आजमाने के पहले उसी क्षेत्र के डॉक्टर से सम्पर्क करें )

होम्योपैथी

होम्योपैथी में नशे की तलब कम करने के लिए नीचे लिखी दवाएं दी जाती हैं :

शराब की इच्छा, साइड इफेक्ट्स कम करने के लिए--

क्वेरकस स्प्रिटस ग्लैंडियम P (Quercus Spiritus Glandium P)

हैंगओवर कम करने के लिए

नक्स वोमिका (Nux Vomica)

ड्रग्स की तलब कम करने के लिए

ओपियम 30 (Opium 30), बैनापिस 30 (Bannapis 30), कैनाबिस इंडिका 30 (Cannabis indica 30), सल्फर 30 (Sulphur 30) और नक्स वोमिका (Nux Vomica)

तंबाकू की इच्छा कम करने के लिए

टबैकम (Tabacum), सेलेनियम (Selenium), कैलेडियम (Caladium), डैफ्ने इंडिका (Daphne Indica)

आयुर्वेद

आयुर्वेद के मुताबिक नशे से शरीर में पात, पित्त या कफ में से कोई एक या ज्यादा दोष बहुत ज्यादा बढ़ जाते हैं। इन्हीं दोषों को बैलेंस करने के लिए आयुर्वेद काम करता है।

घरेलू और हर्बल इलाज नीबू का आधा चम्मच रस एक गिलास पानी में मिलाकर दिन में कई बार लें।

चुटकीभर सौंठ (सूखा अदरक) पानी के साथ दिन में दो बार लें.

अदरक और काली मिर्च को शहद और नीबू के साथ मिलाकर लेना नशे के पीड़ितों के लिए फायदेमंद है.

पानी में 4 घंटे भिगोकर रखी गई एक चम्मच किशमिश सुबह और शाम खाएं.

ब्राह्मी, यष्टिमधु (मुलहठी), गुडुची या शंखपुष्पी का सेवन भी फायदेमंद है.

ऐलोवेरा लिवर के लिए फायदेमंद है, जबकि अश्वगंधा तंत्रिका तंत्र और मस्तिष्क को पुष्ट बनाता है.

मुद्रा, ध्यान और योगाभ्यास

योग के जरिये भी शराब से छुटकारा पाया जा सकता है. ज्ञान मुद्रा से आत्मविश्वास बढ़ाता है और मन का शुद्धिकरण होता है. ज्ञान मुद्रा करने के लिए राइट हैंड के अंगूठे को तर्जनी के टिप पर लगाएं और लेफ्ट हैंड को छाती के ऊपर रखें. सांस सामान्य रहेगी.

योग क्रियाएं

कुछ योग क्रियाओं (कुंजल क्रिया, वस्ति, शंख प्रक्षालन आदि) के जरिए शरीर में फैले जहर को निकाला जाता है. लेकिन इन्हें एक्सपर्ट से सीखकर ही करें. योगाभ्यास बिना एक्सपर्ट की मदद से करना काफी खतरनाक हो सकता है. सही तरीके से किया योगाभ्यास ही मददगार साबित होता है.

अल्कोहॉलिक्स एनॉनिमस संस्था छुड़वाती है शराब की लत

यह शराब छुड़ाने वालों की संस्था है. इसके सभी सदस्य अल्कॉहॉलिक रह चुके हैं. इसे अल्कोहॉलिजम के शिकार लोगों का परिवार कहें तो बेहतर होगा. सबसे अच्छी बात यह है कि यह संस्था किसी भी व्यक्ति से कोई फीस नहीं लेता. यानी मुफ्त में ही शराब छोड़ने का इलाज होता है. यहां होने वाली मीटिंग में सभी सदस्य अपने अनुभव और उन गलतियों को शेयर करते हैं, जो उन्होंने शराब की वजह से कीं. नए सदस्य को एक ट्रेनर को सौंप दिया जाता है, जिसे स्पॉन्सर कहते हैं। स्पॉन्सर उनके साथ हमेशा कॉन्टैक्ट बनाए रखता है. इसके लिए लगातार 90 मीटिंग अटेंड करने की सलाह दी जाती है।

अलटिन

अलटिन शराब से पीड़ित परिवार से जुड़े बच्चों का ग्रुप है। इसमें बच्चों को अपने पैरंट्स से होने वाली परेशानियों से राहत मिलती है। इसकी मीटिंग्स में बच्चों को बढ़िया सलाह दी जाती है, ताकि उनके करियर को संवारा जा सके।

हेल्पलाइन

अगर आप शराब छोड़ना चाहते हैं तो आपके लिए हेल्पलाइन भी मौजूद है. जहां से आप अपनी किसी भी समस्या पर मुफ्त में सलाह ले सकते हैं. दिल्ली और एनसीआर में रहने वाले नीचे दिए गए हेल्पलाइन पर संपर्क कर अल्कोहॉलिक्स एनॉनिमस, अलनोन और अलटिन की मीटिंग्स की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं : 98109-12534, 98717-87873

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???