Patrika Hindi News

पाक ने ठहराया भारत को दोषी

Updated: IST Pakistan flag
अंतरराष्ट्रीय हॉकी महासंघ (एफआईएच) द्वारा जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप से पाकिस्तान को बाहर किए जाने पर पाकिस्तान ने भारत को इसका जिम्मेदार ठहराया है।

लाहौर। एफआईएच के मुताबिक, पाकिस्तान हॉकी महासंघ (पीएचएफ) ने अंतिम तारीख तक अपने खिलाड़ियों का यातायात कार्यक्रम नहीं बताया था।

पीएचएफ ने हालांकि इसके बाद एफआईएच की आलोचना की है और उसके इस कदम को सोची समझी साजिश बताया है। पीएचएफ के सचिव शहबाज अहमद ने इसके लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया है।

पाकिस्तान के अखबार 'द डॉन' ने मंगलवार को शहबाज के हवाले से लिखा है, "पाकिस्तान ने किसी भी कार्यक्रम में देरी नहीं की। पाकिस्तानी खिलाड़ियों को अंतिम ति​थि से पहले वीजा न देना भारत की गलती है।"

उन्होंने कहा, "हमारी सरकार ने समय पर खिलाड़ियों को टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के लिए अनापत्ती प्रमाण पत्र (एनओसी) जारी कर दिया था। यह दुख की बात है कि पाकिस्तान जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप में हिस्सा नहीं ले पाएगा। हमने हमारे खिलाड़ियों के लिए प्रशिक्षण शिविर भी लगाया था तो हम कार्यक्रम में कैसे देरी कर सकते हैं।"

लखनऊ के मेजर ध्यानचंद स्टेडियम में आठ दिसंबर से शुरू होने वाले जूनियर वर्ल्ड कप में एफआईएच ने मलेशिया को पाकिस्तान के विकल्प के तौर पर शामिल किया है। एफआईएच ने बयान में कहा है, "एफआईएच को इस बात का अफसोस है कि पाकिस्तान की जूनियर पुरुष टीम इस साल उत्तर प्रदेश में होने वाले जूनियर वर्ल्ड कप में क्वालिफाई करने के बाद भी हिस्सा नहीं ले पाएगी।"

बयान के मुताबिक, "एफआईएच ने यह फैसला पाकिस्तान हॉकी महासंघ (पीएचएफ) से बात करके और उनके टूर्नामेंट में हिस्सा लेने के सभी इंतजामात की पुष्टि करने के बाद ही लिया है।"

बयान में कहा गया है, "तय सीमा के बाद वीजा के लिए अर्जी दी गई और समय सीमा के बाद भी ठहरने की व्यवस्था की पुष्टि नहीं की गई। इसके लिए उन्हें कई बार याद भी दिलाया गया।"

बयान में लिखा है, "एफआईएच के अपने साझेदारों के साथ कुछ करार संबंधी सीमाएं हैं। जिसके तहत उसे आने वाले जूनियर हॉकी वर्ल्ड कप में सभी मैच कराने हैं।"

बयान के मुताबिक, "कुछ ही दिनों में टूर्नामेंट शुरू हो जाएगा और मंगलवार को एफआईएच के पास सभी 16 टीमों की पुष्टि करने की अंतिम तिथि है।"

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???