Patrika Hindi News

> > > > Haryana roadways employee angry on operator death

परिचालक की मौत पर बिफरे रोडवेज कर्मी, 5 घंटे चक्का जाम

Updated: IST roadways strike
दिल्ली में झज्जर डिपू के परिचालक की मौत पर बिफरे रोडवेज कर्मी, काफी संख्या में यात्री बस अड्डा पर फंसे,परेशान

जींद। दिल्ली आईएसबीटी में ट्रेफिक मैनेजर की प्रताडऩा से झज्जर डिपू के परिचालक की मौत पर बिफरे रोडवेज कर्मियों ने वीरवार को रोडवेज का 5 घंटे चक्का जाम कर दिया। गुस्साए रोडवेज कर्मियों ने टीएम को गिरफ्तार करने, मृतक परिचालक के परिवार को सरकारी नौकरी तथा 50 लाख रुपये आर्थिक सहायता देने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया और नारेबाजी की। लगभग 5 घंटे तक रोडवेज का चक्का जाम होने के कारण काफी संख्या में यात्री बस अड्डा पर फंस गए और उन्हें परेशानी का सामना करना पड़ा।

रोडवेज कर्मचारी नेताओं ने चेताया कि अगर उनकी डिमांड पूरी नहीं की गई तो चक्का जाम अनिश्चतकाल के लिए हो सकता है। दोपहर बाद रोडवेज की बस सेवाएं बहाल हो सकी। वीरवार सुबह रोडवेज कर्मचारियों का गुस्सा उस समय फूट पड़ा जब उन्हें पता चला कि दिल्ली आईएसबीटी की टीएम नीतू की प्रताडऩा से झज्जर डिपू के परिचालक सुंदर की ह्रदय गति रूकने से मौत हो गई।

गुस्साए रोडवेज कर्मचारियों ने टीएम नीतू तथा प्रताडऩा में शामिल रहे उसके सहयोगियों की गिरफ्तारी तथा अन्य मांगों को लेकर बसों का परिचलन रोक दिया। बस अड्डा के एक द्वार का गेट बंद कर दिया गया तो दूसरे गेट में बस खड़ी कर रास्ता बाधित कर दिया। चक्का जाम के निर्णय के दौरान काफी संख्या में यात्री बस अड्डा पर अपने गंतव्य की और जाने का इंतजार कर रहे थे। चक्का जाम के निर्णय से यात्रियों के मात्थे पर परेशानी की लकीरे साफ देखने को मिली। ऐसे हालातों में यात्रियों ने निजी वाहनों से अपने गंतव्य की और रवाना होना पड़ा। हालांकि चक्का जाम सांकेतिक रूप से दो घंटे का था, दोपहर बाद बसों का परिचलन बहाल कर दिया गया।

सहकारी परिवहन समितियों की बसों की हुई बल्ले-बल्ले

वीरवार को रोडवेज की बसों का चक्का जाम हुआ तो हरियाणा सहकारी परिवहन समितियों की बसों की बल्ले-बल्ले हो गई। हालांकि सहकारी परिवहन समितियों की बसों को बस अड्डा के अंदर नहीं घुसने दिया गया। गोहाना रोड से निजी बसों ने खूब सवारी उठाई। इसी प्रकार मैक्सी कैब चालकों ने भी जमकर चांदी कूटी, उन्हें भी लम्बे रूटों पर चलते देखा गया।

भटकते रहे यात्री

अचानक रोडवेज का चक्का जाम किए जाने के कारण यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा। यात्री बस अड्डा को छोड़कर गोहाना रोड पर आ गए और प्राइवेट वाहनों से अपने गंतव्य के लिए रवाना हुए।

रोहतक निवासी यात्री विपिन ने बताया कि वह सुबह दस बजे बस अड्डा पर पहुंचा था और उसे वापस लौटना था। बस अड्डा पर पहुंचने पर पता चला कि रोडवेज कर्मियों ने चक्का जाम कर दिया है। अब उसे मजबूरी में प्राइवेट वाहन से रोहतक जाना होगा।

झांझ गेट निवासी सुदेश ने कहा कि उसे दिल्ली जाना है। काफी समय से बस का इंतजार कर रही है लेकिन बसें नहीं चल रही। या तो उसे गोहाना रोड पर खड़ा होकर पंजाब रोडवेज की बसों का इंतजार करना होगा या फिर रोडवेज बस चलने का।

सर्व कर्मचारी संघ से संबंधित जींद डिपो प्रधान महिपाल ने कहा कि स्टेट कमेटी के आह्वान पर दो घंटे का चक्का जाम रखा गया है। उनकी मांगे मृतक परिचालक परिवार को सरकारी नौकरी, 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता तथा दिल्ली आईएसबीटी टीएम नीतू व उसके साथियों की गिरफ्तारी शामिल है।

टीएम व उसके साथियों ने बेइज्जत किया

रोडवेज कर्मचारी महासंघ के डिपो प्रधान अजित नेहरा ने कहा कि परिचालक को टीएम व उसके साथियों ने बेइज्जत किया था। जिसके चलते परिचालक की ह्रदय गति रूकने से मौत हुई। अगर उनकी मांगे पूरी नहीं हुई तो रोडवेज का अनिश्चतकालीन चक्का जाम किया जा सकता है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???