Patrika Hindi News

देवीपाटन मंदिरः यहां साक्षात मां हैं विराजमान, दर्शन करने पर पूरी होती है मनोकामनाएं

Updated: IST devi patan temple
पाटन गांव मे माँ जगदम्बा का बांया स्कंद पाटम्बर समेत गिरा

देश-विदेश के श्रद्धालुओं की आस्था का केन्द्र मां पाटेश्वरी देवी धाम में कडी सुरक्षा के बीच एक मास तक चलने वाला मेला शुरू हो गया। योगी आदित्यनाथ के उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बन जाने से यहां के लोग काफी उत्साहित हैं क्योकि वह गोरखपुर के गोरक्ष पीठ के साथ ही देवीपाटन के भी पीठाधीश्वर हैं। श्रद्धालुओं का इक्यावन शक्तिपीठों मे एक आदि शक्ति माँ पाटेश्वरी देवी का दर्शन करने के लिए नवरात्रि स्थापना के दिन से ही लगातार तांता लगा हुआ है। मंदिर में मां का दर्शन करने के लिए देश-विदेश से बडी संख्या में यहां भक्त पहुंचते हैं।

यह भी पढें: प्रेमिका को पाने के लिए इस मंदिर में युवा करते हैं पूजा, बच्चे-बूढ़ों को अंदर घुसने की है मनाही

यह भी पढें: बालक की तपस्या से प्रसन्न होकर प्रकट हुए थे महाकाल, दर्शन मात्र से दूर होते हैं सारे कष्ट

धार्मिक संस्कार भी होते हैं मेले में

मेले मे आ रहे देशी विदेशी श्रद्धालु मुण्डन, कनछेदन, नकछेदन, विवाहरस्म, नामकरण संस्कार और अन्य रस्म-रिवाजों को हिंदू वैदिक रीति से करा रहे हैं। नवरात्रि के दिनो मे विशाल प्रसाद वितरण और भंडारे का आयोजन किया जा रहा है। मेले मे महिलाएँ पुरुष और बच्चे सर्कस ,झूला और तमाम प्रकार के श्रृंगार सामग्रियों से सजी दुकानों से खूब जमकर खरीददारी कर रहे है। देवीपाटन मंदिर उत्तर प्रदेश मे बलरामपुर जिले के भारत-नेपाल सीमा से सटे तुलसीपुर तहसील क्षेत्र के पाटन गांव मे सिरिया नदी के तट पर स्थित है।

महादेव और मां सती से जुड़ी हैं यहां की कहानी

देवी पाटन मंदिर मे मुख्य रुप से माँ पाटेश्वरी की पुष्प, नारियल, चुनरी, लौंग, इलायची, कपूर एवं अन्य पूजन सामग्रियां चढाकर पूजा अर्चना की जाती है। दूर दराज से आये अधिकांश देवीभक्त यहाँ स्थित सूर्य कुंड मे स्नान कर पेट पलनिया (लेटकर) चलकर माँ के दर्शन करते हैं। बलरामपुर मंदिर के महन्त योगी मिथिलेश नाथ ने बताया कि मान्यताओं के अनुसार पिता दक्ष प्रजापति के यहाँ आयोजित बड़े अनुष्ठान मे अपने पति इष्टदेव देवाधिदेव महादेव को न्यौता और स्थान न दिए जाने से क्षुब्ध माँ जगदम्बा ने स्वयं को अपमानित महसूस करते हुए अग्नि को भेंट कर सती कर लिया था।

यह भी पढें: महाशिवरात्रि को बने तीन विशेष योग, शिव की आराधना से बन जाएंगे सारे काम

यह भी पढें: भगवान शिव को कभी न चढ़ाएं ये वस्तुएं, जानिए क्या हैं इनका राज

माता के सती होने से आक्रोशित महादेव अत्यंत दुखी हुए। वह सती के शव को कंधे पर रखकर तांडव करने लगे। शिव तांडव से धरती थर्राने लगी और संसार मे व्यवधान उत्पन्न होने लगा। संसार को विनाश से बचाने के लिये भगवान विष्णु ने सती के अंगो को सुदर्शन चक्र से खण्डित कर दिया। जिन इक्यावन स्थानों पर माता के अंग गिरे वह स्थान शक्तिपीठ माने गये। पाटन गांव मे माँ जगदम्बा का बांया स्कंद पाटम्बर समेत गिरा तभी से इसी शक्तिपीठ को माँ पाटेश्वरी देवी पाटन मंदिर के नाम से जाना जाता है।

नव दुर्गाओं में माँ शैलपुत्री, कुष्मांडा, स्कंदमाता, कालरात्रि, महागौरी, चंद्रघंटा, सिद्धदात्री, ब्रह्मचारिणी और कात्यायनी की प्रतिमायें मंदिर मे स्थापित हैं। बलरामपुर मंदिर मे स्थित गर्भगृह सुरंग पर माँ की प्रतिमा विद्यमान है। यहाँ कई रत्नजडित छतर हैं। ताम्रपत्र पर दुर्गा सप्तशती अंकित है। यहाँ प्रमुख रुप से रोट का प्रसाद चढ़ाया जाता है। महन्त योगी मिथिलेश नाथ ने बताया कि नेपाल के दाँग चौधड के राजकुंवर रतन परीक्षक ने देवी पाटन की कड़ी उपासना की। उनकी साधना से प्रसन्न होकर माँ पटेश्वरी ने बाबा रतन परीक्षक को आशीर्वाद दिया। तभी से उन्हे बाबा रतननाथ के नाम से जाना जाने लगा।

रतननाथ ने नाथ सम्प्रदाय की स्थापना कर अफगानिस्तान, नेपाल और कई देशों मे इसका प्रचार प्रसार किया। देवी पाटन मंदिर परिसर मे बाबा पीर रतननाथ का दरीचा स्थित है। नवरात्रि की पंचमी तिथि को नेपाल के दाँग चौधड से पीर बाबा की भव्य पद शोभा यात्रा यहाँ आती है। महंत ने बताया कि पंचमी से अगले तीन दिनो तक मंदिर मे बिना घंटा घडिय़ाल बजाए बाबा की पूजा-अर्चना विशेष रुप से नाथ सम्प्रदाय के अनुयायी करते हैं। उसके बाद पुन: अपने गंतव्य स्थान पर वापस ले जाकर उन्हे दाँग मे स्थापित कर दिया जाता है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???