Patrika Hindi News

तीन मई को खुलेंगे केदारनाथ धाम के कपाट

Updated: IST Char dham yatra special: Kedarnath Dham Temple Jou
उत्तराखंड के चार धामों में से एक और 12 ज्योर्तिलिंगो में माने जाने वाले केदार नाथ धाम के कपाट तीन मई को खोले जाएंगे

उत्तराखंड के चार धामों में से एक और 12 ज्योर्तिलिंगो में माने जाने वाले केदार नाथ धाम के कपाट तीन मई को खोले जाएंगे। इसकी डोली 30 अप्रैल को उखीमठ से रवाना होगी। डोली रवाना होने के बाद विधिविधान के साथ तीन मई को पुरोहितो और राज्य के गणमान्य लोग मंदिर समिति के पदाधिकारियों की उपस्थिति में विधिवत यात्रा तथा दर्शन कर केदारनाथ यात्रा की शुरूआत करेंगें।

बाबा केदार के शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर में केदारनाथ के रावल भीमाशंकर लिंग ने ज्योतिषीय परामर्ष और पंचांग देखकर कपाट खुलने का महूर्त निकाला। शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर को सजाया गया था। शनिवार को प्रात: दस बजे कपाट खुलने की तिथि घोषित होने के बाद उत्तराखंड तीर्थ यात्रियो के स्वागार्थ तैयारी में जुट गया है। केदारनाथ यात्रा से जुड़े विभागों के प्रस्ताव के अनुसार प्रशासन को धनराशि उपलब्ध होती है तो इस वर्ष केदारनाथ यात्रा हाईटेक होगी।

यह भी पढें: ये छोटा सा टोटका दूर कर देता है हर टेंशन, खर्चा एक रूपया नहीं होता

यह भी पढें: आपके घर में है नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव तो आपकी रसोई का पानी हो सकता है बहुत उपयोगी

इस बार केदारनाथ यात्रा पर आने वाले तीर्थ यात्रियों की संख्या में अत्यधिक वृद्धि होने के आसार हैं। श्री बद्री-केदार मंदिर समिति के साथ ही होटल-लॉज व्यवसायियों को एडवांस बुकिंग मिलना शुरू हो गया है। पिछले वर्ष तीन लाख से भी अधिक तीर्थ यात्रियों ने बाबा केदार के दर्शन किए थे। इस वर्ष उम्मीद है कि यात्रियों की संख्या का आकंड़ा इस से भी पार होगा। मई-जून में यात्रा अपने शिखर पर रहती है। इन्हीं दो माह में सबसे अधिक यात्री आते हैं। प्रशासन का दावा है कि इस वर्ष केदारनाथ यात्रा पर आने वाले तीर्थ यात्रियों को किसी भी प्रकार की दिक्कतें नहीं होने दी जाएंगी। पिछले वर्ष की तुलना में यात्रियों को इस वर्ष ओर बेहतर सुविधाएं मिलेंगी।

यह भी पढें: पुत्र समान लक्ष्मण को निगल गईं जब सीता, दूर से देख रहे थे हनुमान, जानिए क्यों?

यह भी पढें: यहां हनुमानजी की होती है स्त्री स्वरूप में पूजा, दर्शन मात्र से पूरे होते हैं सब काम

यह भी पढें: हल्दी के अचूक टोटके, जिन्हें करते ही तुरंत होता है असर

आगामी अप्रैल-मई माह से शुरू होने वाली चारधाम यात्रा को लेकर श्री बद्री-केदार मंदिर समिति को पूजा की तो होटल-लॉज व्यवसायियों को रहने-खाने के लिए यात्रियों की ओर से एडवांस बुकिंग मिलना शुरू हो गई हैं। केदारनाथ की बात करें तो आपदा के बाद से केदारनाथ की स्थिति बदल चुकी है। सूत्रों के अनुसार 14 किमी की जगह 20 किमी का पैदल रास्ता हो गया है। साथ ही कभी-कभार केदारनाथ में यात्रियों को रहने में दिक्कतें आ जाती हैं। ऐसी स्थिति में प्रशासन की और से एक दिन में लगभग आठ हजार यात्रियों को ही केदारनाथ भेजा जाता है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???