Patrika Hindi News

> > > PM Modi should seek 6 months old bank records from party lawmakers : Kejriwal

नोटबंदी से छह माह पहले का ब्यौरा मांगे मोदी : केजरीवाल

Updated: IST Arvind Kejriwal Narendra Modi
केजरीवाल ने कहा, नौ नवंबर के बाद का क्यों, कृपया, आठ नवंबर से छह माह पहले का ब्यौरा लीजिए

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसदों और विधायकों से आठ नवंबर से 31 दिसंबर तक के लेनदेन का ब्यौरा मांगने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर सवाल खड़ा करते हुए मंगलवार को कहा कि प्रधानमंत्री को नोटबंदी की घोषणा से छह माह पहले की जानकारी मांगनी चाहिए थी। आम आदमी पार्टी (आप) के संयोजक ने ट्वीट करके कहा, नौ नवंबर के बाद का क्यों। कृपया, आठ नवंबर से छह माह पहले का ब्यौरा लीजिए।

मोदी पर हमला करते हुए केजरीवाल ने कहा मोदीजी को अपने दोस्तों -अंबानियों, अडानियों, पे टीएम और बिग बाजार के बैंकों के लेनदेन का ब्यौरा मांगना चाहिए। मुख्यमंत्री ने लिखा एटीएम में पैसा नहीं है। मोदी सरकार ने बिग बाजार में नए नोट भेजे, आखिर क्यों, नकदी एटीएम में भेजी जानी चाहिए या बिग बाजार में। आप ने नोटबंदी के केंद्र के कदम के विरोध में सोमवार को राजधानी के सेंट्रल पार्क में जनसंवाद आयोजित किया था।

उल्लेखनीय है कि मोदी ने भाजपा सांसदों और विधायकों से आठ नवंबर से 31 दिसंबर तक के बैंकों से लेनदेन का ब्यौरा एक जनवरी 2017 तक अपने जिलाध्यक्षों को देने का निर्देश दिया है।

पुराने नोट जमा कराने की अवधि नहीं बढ़ेगी : सरकार

सरकार ने मंगलवार को कहा कि रिजर्व बैंकऑफ इंडिया (आरबीआई) तथा वाणिज्यिक बैैंकों के पास पर्याप्त मात्रा में मुद्रा उपलब्ध है और नोटबंदी के तहत 30 दिसंबर तक पुराने नोट जमा कराने की अवधि में बढ़ोतरी नहीं की जाएगी। वित्त राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल ने राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में बताया कि अभी प्रचलन में जो नोट हैं उनकी पर्याप्त उपलब्धता है। 100 रुपए के नोट भी उपलब्ध हैं।

नोटबंदी के तहत 500 और एक हजार रुपए के नोट बैंक में जमा कराने की अवधि में बढ़ोतरी के बारे में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि इस तरह का कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों के लिए बैंकों को 100 रुपए और उससे कम मूल्य के रुपए भेजने के लिए कहा गया है। उल्लेखनीय है कि सरकार ने 08 नवंबर की मध्यरात्रि से 500 और एक हजार रुपए के नोटों का प्रचलन बंद कर दिया और इन नोटो को 30 दिसंबर तक बैंकों में जमा कराने का समय दिया गया है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???