Patrika Hindi News

प्रीति अग्रवाल बनीं उत्तरी दिल्ली निगम की महापौर 

Updated: IST priti agrwal
हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री बनारसी दास गुप्ता की पौत्र वधू रोहिणी एफ वार्ड से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पार्षद प्रीति अग्रवाल को गुरुवार को उत्तरी दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) की निर्विरोध महापौर चुन ली गई।

नई दिल्ली. हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री बनारसी दास गुप्ता की पौत्र वधू रोहिणी एफ वार्ड से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की पार्षद प्रीति अग्रवाल को गुरुवार को उत्तरी दिल्ली नगर निगम (एनडीएमसी) की निर्विरोध महापौर चुन ली गई। 26 अप्रैल को निगम के चुनाव परिणामों में भाजपा को पूर्ण बहुमत मिला था। ग्यारह मई को महापौर पद के लिए नामांकन हुआ, जिसमें अग्रवाल के अलावा और किसी पार्टी के उम्मीदवार ने पर्चा नहीं भरा।

विजय भगत चुने गए निर्विरोध उपमहापौर
निगम के नियमों के अनुसार पांच वर्ष के निगम कार्यकाल के प्रथम वर्ष में महिला महापौर होती है। दूसरे वर्ष में यह पद सामान्य वर्ग के लिए, तीसरे में अनुसूचित जाति और अंतिम दो वर्ष में फिर सामान्य वर्ग के लिए आरक्षित है। विजय भगत निर्विरोध उपमहापौर चुने गए हैं। इसके अलावा भाजपा के तिलकराज कटारिया, रमेश बाल्मीकी, जयप्रकाश, जयेन्द्र डबास और विकास कुमार गुप्ता ने स्थाई समिति के सदस्य निर्वाचित हुए है।

पार्षदों को दिलाई गई शपथ
कांग्रेस सीमा तहरिया और आम आदमी पार्टी (आप) के विकास गोयल भी समिति के सदस्य के बने है। स्थाई समिति में कुल 12 सदस्य होते हैं। इसमें से छह सदस्य सदन से और छह अन्य निगम के छह जोनों की वार्ड समितियों से चुने जाते हैं। नए निगम की गुरुवार को पहली बैठक में पार्षदों को शपथ दिलाई गई। इस मौके पर दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता बिजेन्द्र गुप्ता, दिल्ली भाजपा के पूर्व अध्यक्ष सतीश उपाध्याय और भाजपा के दिल्ली मामलों के सह प्रभारी तरूण चुघ भी मौजूद थे।

अग्रवाल ने तय किया अपना एजेंडा
अग्रवाल ने महापौर चुने जाने के बाद कहा कि वह निगम इलाके में सफाई व्यवस्था को दुरूस्त करने पर जोर देंगी। स्वास्थ्य और शिक्षा पर भी विशेष ध्यान दिया जायेगा। निगम से भ्रष्टाचार को खत्म करने औार काम काज में अधिक पारदर्शिता लाने पर बल देंगे। निगम की सेवाओं को अधिक से अधिक ऑनलाइन बनाने का प्रयास करेंगे जिससे जनता को अनावश्यक निगम कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने पड़े।

104 वार्ड हैं उत्तरी निगम में
उत्तरी निगम में कुल 104 वार्ड है। सराय पीपलथला वार्ड में एक उम्मीदवार की मृत्यु हो जाने के कारण चुनाव नहीं हुआ था। इस वार्ड पर 21 मई को चुनाव होना है। दिल्ली के तीनों निगमों में कुल 272 वार्ड हैं। 26 अप्रैल को आये नतीजों में भाजपा ने तीनों निगमों में भारी बहुमत के साथ विजय प्राप्त की थी। उत्तरी निगम के 103 वार्डों में हुए चुनाव में भाजपा को 64, आप को 21 और कांग्रेस को 15 वार्डों पर विजय मिली थी। तीन पर निर्दलीय और अन्य विजय हुए थे।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???