Patrika Hindi News

> > > Winter Session Of Parliament, Lok Sabha And Rajya Sabha, PM In Parliament

दोनों सदनों में हंगामा, PM से माफी की मांग पर अड़ा विपक्ष

Updated: IST Winter Session Of Parliament
गुलाम नबी आजाद ने विपक्ष को काले धन के समर्थक के रूप में प्रचारित करने को लेकर पीएम से माफी मांगने को कहा

नई दिल्ली। राज्यसभा में गुरुवार को भी नोटबंदी के मुद्दे पर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच भारी घमासान हुआ। ऊपरी सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से माफी मांगने को कहा। हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही 15 मिनट के लिए स्थगित कर दी गई। हंगामा खत्म न होने के कारण आखिरकार सदन की कार्यवाही दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। बाद में भी हंगामा कम होने का नाम नहीं ले रहा था जिसके बाद सदन को कल तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

विपक्ष ने कहाः माफी मांगे पीएम मोदी

प्रधानमंत्री के सदन में प्रवेश करते ही विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने विपक्ष को काले धन के समर्थक के रूप में प्रचारित करने को लेकर उन्हें माफी मांगने को कहा। तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओब्रायन ने भी आजाद का समर्थन किया।

पीएम ने विपक्ष पर काला धन रखने का आरोप लगाया है

इसके सभापति हामिद अंसारी ने शून्यकाल के बाद जैसे ही प्रश्नकाल शुरू करने का प्रयास किया तो विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि हाल के दिनों में प्रधानमंत्री ने नोटबंदी पर भाषण करते हुए विपक्ष पर कालेधन रखने वालों का समर्थन करने आरोप लगाया है।

पूरा भारत कतार में खड़ा है

आजाद ने कहा कि कांग्रेस समेत पूरा विपक्ष कालेधन के खिलाफ हैं लेकिन प्रधानमंत्री की टिप्पणी से दुख पहुंचा है। इसके लिए प्रधानमंत्री को माफी मांगनी चाहिए। कांग्रेस के सभी सदस्यों ने मेज थपथपाकर उनका समर्थन किया। विपक्ष के नेता ने कहा कि यह मांग न तो राष्ट्र विरोधी और न ही गैर सांविधानिक हैं। सरकार ने बगैर किसी तैयारी के नोटबंदी का फैसला किया जिससे पूरा भारत कतार में खडा है। इन कतारों में अभी तक 82 लोग मारे जा चुके हैं।

विपक्ष पर टिप्पणी के लिए माफी मांगना चाहिएः मायावती

बहुजन समाज पार्टी की मायावती ने कहा कि नोटबंदी पर पूरी चर्चा के दौरान मोदी को सदन में रहना चाहिए और उन्हें विपक्ष पर की गयी टिप्पणी के लिए माफी मांगी चाहिए। जनता दल यूनाइटेड के शरद यादव ने कहा कि सदन नोटबंदी पर चर्चा चाहता है और प्रधानमंत्री पर निर्भर है। वह खेद व्यक्त करें। इस पर सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम. वेंकैया नायडू और रवि शंकर प्रसाद ने कडा विरोध किया और कहा कि सदन विपक्ष से भाग रहा है। वेंकैया ने कहा कि प्रधानमंत्री सदन में मौजूद हैं। नोटबंदी पर चर्चा हो चुकी है। कई बड़े नेता बोल चुके हैं और प्रधानमंत्री ने उन्हें सुना है। विपक्ष को बहस में हिस्सा लेना चाहिए।

इन सब के बाद भी हंगामा कम नहीं हुआ तो राज्यसभा की कार्यवाही को कल तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

लोस लोकसभा की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित

लोकसभा में विपक्षी दलों के सदस्यों ने नोटबंदी पर चर्चा कराने की मांग को लेकर आज फिर भारी शोर शराबा और हंगामा किया जिसके कारण सदन की कार्यवाही एक बार के स्थगन के बाद दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई।

प्रश्नकाल के बाधित होने के बाद 12 बजे सदन की कार्यवाही दोबारा शुरू हुई तो जरूरी कामकाज निपटाने के बाद अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने शून्य काल शुरू कर दिया। इसी बीच विपक्षी दलों के कई सदस्य नोटबंदी पर चर्चा की मांग करते हुए सदन के बीचोंबीच आकर नारेबाजी करने लगे। हंगामे के बीच सदन में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खडगे, राष्ट्रीय जनता दल के जयप्रकाश नारायण यादव, माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के पी करुणाकरन तथा तृणमूल कांग्रेस के नेता सुदीप वंद्योपाध्याय सहित कई सदस्य बोलने के लिए अपनी सीटों पर खड़े हो गए तो अध्यक्ष ने उन्हें अपनी बात रखने की अनुमति प्रदान कर दी।

खडगे ने कहा कि कांग्रेस के साथ ही पूरा विपक्ष नियम 56 के तहत नोटबंदी को लेकर लोगों को हो रही भारी दिक्कतों पर चर्चा कराना चाहता है लेकिन सरकार चर्चा से भाग रही है। विपक्ष इस मुद्दे पर मुश्किल हालात में धकेले गए लोगों की आवाज बनकर सदन में बहस कराने की मांग कर रहा है तो सरकार को इसके लिए तैयार होना चाहिए। राष्ट्रीय जनता दल के श्री यादव ने कहा कि बहस नियम 56 के तहत हो और मतविभाजन होने की स्थिति में कोई दिक्कत नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के कारण गरीबों की मौत हो रही है।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को सपने भारत मैट्रीमोनी से साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!

Latest Videos from Patrika

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???