लग्जरी कारों को मात देता है यह ट्रैक्टर, खूबियां जान रह जाएंगे हैरान

Updated: IST case i h tractor
फिएट क्रिसलर कंपनी के इस ट्रैक्टर से धुंआ नहीं निकलता

नई दिल्ली। लोगों के शौक भी अजीबोगरीब होते हैं। कोई बीएमडब्ल्यू और मर्सीडिज में लग्जरी ड्राइविंग खोजता है तो कोई टैक्टर में। 1 करोड़ 69 लाख रुपए का यह टैक्टर इसी सपने से जन्मा है। यह साइंस और इनोवेशन के साथ लग्जरी और शौक का अनोखा मिश्रण है। किसी टॉप एसयूवी और इस टैक्टर में कई सारी समानताएं हैं। 24,200 पाउंड वजन के इस टैक्टर की टॉप स्पीड लगभग 50 किलोमीटर प्रति घंटा है, जो लग्जरी के मामले में कारों को भी मात देती है।

टैक्टर ऑफ द ईयर
देखने में विशालकाय और डीजल से चलने वाला यह टैक्टर बाहर से बुलडोजर की तरह दिखता है। हालांकि इसका इंटीरियर इतना खूबसूरत और आरामदायक है कि इससे सवारी करना लड़कियों को भी पसंद है। क्योंकि एक तरफ जहां इसकी चारों ओर धूल होती है, वहीं इसके अंदर बैठा आदमी किसी लग्जरी कार में बैठे होने के अहसास में खोया रहता है। इस टैक्टर का नाम है- 2017 केस आईएच ऑप्टिम 270 सीवीएक्स। अपनी खासियतों के कारण ही ट्रैक्शन और आइरिश फार्मर्स जैसी मासिक मैग्जीन के पत्रकारों के एक समूह ने इसे टैक्टर ऑफ द ईयर का खिताब दिया।

जोत नहीं, टेस्ट ड्राइव चाहते हैं लोग
बेशक यूरोप और अमरीका समेत अमीर मुल्कों के रईस किसानों के पास पैसे की कमी नहीं है। लेकिन इस टैक्टर के शौकीनों को जोत बाद में और टेस्ट ड्राइव पहले चाहिए। टेस्ट ड्राइव के आधार पर ही इसकी खरीद का निर्णय लिया जाता है कंपनी को इस बात का मलाल है कि इस ट्रैक्टर को प्रेस से पब्लिसिटी नहीं मिली जबकि लग्जरी कारों को उनकी तेज गति के लिए खूब सराहा जाता है।

फिएट क्रिसलर बनाती है यह टै्रक्टर
केस आईएच का निर्माण सीएनएच इंडस्ट्रियल नामक कंपनी करती है, जो फिएट क्रिसलर ऑटोमोबाइल्स की सिस्टर कंपनी है। अपने रूप-रंग, आकार और इंजन की आवाज से यह ट्रैक्टर रोमांच पैदा करता है। लोग इस ट्रैक्टर की नजदीकी का लुत्फ उठाना और इसे आंखों में बसाना पसंद करते हैं। इसे बनाने वाली फैक्टरी ऑस्ट्रिया में है।

एसयूवी से कई समानताएं
महंगी लग्जरी एसयूवी और इस टैक्टर में कई सारी समानताएं हैं। इसमें 6.7 लीटर टर्बो-डीजल इंजन, डूअल-क्लच गीयर-सेट और ऑटोमैटेड लॉकिंग डिफरेंशियल्स लगे हुए हैं। वास्तव में इस ट्रैक्टर को कार जैसा बनाने की कोशिश की गई है। वैसे भी यूरोप के रईस किसान हाई-होर्सपावर की मशीन के साथ टाइटर टर्निंग रेडियस और प्रीमियम डिजाइन के शौकीन हैं। उनका मानना है कि किसानी बेहद कठिन और 24 घंटे तथा सातों दिन होने वाला काम है। ऐसे में टै्रक्टर को थोड़ा लग्जरी होना चाहिए।

देखें वीडियो—

धुंआ नहीं निकलता
केस आईएच का नया ऑप्टिम 4 इनटू 4 ट्रैक्टर एक यूरोपीय लग्जरी सामान की तरह है, जो अमीरों के लिए प्राइज्ड पजेशन जैसा है। इसमें यूरोपीय यूनियन के प्रदूषण, कोलाहल और उत्सर्जन संबंधी सभी मानकों और प्रतिबंधों का पूरी तरह से पालन किया गया है। ऑटोमैटेड सिस्टम्स के कारण इससे धुआं न्यूनतम निकलता है। इससे जुड़े बेलर, सीडर, डिस्क कल्टीवेटर, बकेट्स जैसी चीजों का संचालन बेहद स्मूथ है। इसमें कई सारे पावर हाइड्रॉलिक्स लगे हुए हैं।

ये बातें भी हैं खास
-24,200 पाउंड वजन का यह खूबसूरत ट्रैक्टर चमचमाती लग्जरी कार को भी देता है मात
-50 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से भागती है यह शानदार मशीन
-2017 केस आईएच ऑप्टिम को मिला ट्रैक्टर ऑफ द ईयर का खिताब

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???