Patrika Hindi News

यूपी के प्रतापगढ़ में तीन महीने से सुलग रही थी साम्प्रदायिक टकराव की आग

Updated: IST Communal Violence in Pratapgarh
दोनों पक्ष हुए आमने-सामने, हुई अगजनी। अभी भी तनाव बरकरार।

प्रतापगढ़. सांगीपुर के भैंसना में मंगलवार को दो पक्षों का विवाद साम्प्रदायिक टकराव की शक्ल ले सकता था। वहां इसकी जमीन तीन महीने से चले आ रहे तनाव से तैयार हो रही थी। दोनों गांवों में मामला सुलग रहा था पर पुलिस बेखबर थी या यूं कहें कि लापरवाह बनी हुई थी। पुलिस की यही लापरवाही और आंख मूंद लेना मंगलवार को बड़े बवाल का सबब बना। यह बवाल बानगी साबित होती उस बड़े साम्प्रदायिक टकराव की जो हो सकता था। पर अचानक पुलिस हरकत में आई और एक बड़ी घटना को होने से पहले ही रोक लिया। हालांकि अभी भी वहां स्थिति असामान्य बताई जा रही है, पर इलाके में पुलिस तैनात कर वहां की हर एक्टिविटी पर नजर रखी जा रही है।

प्रतापगढ जिले के सांगीपुर थानान्तर्गत कटेहटी गांव से लगा सिलोखर हनुमानगढी गांव अमेठी कोतवाली के अंतर्गत आता है। दोनों गांव के दो समुदायों के बीच कुछ बातों को लेकर काफी समय से विवाद चला आ रहा है। विवाद की वजह के बारे में लोगों के मुताबिक भैंसना के एक समुदाय से जुड़े लोग लोग हनुमानगढी से जाने वाली एक प्राइवेट बस से रोजाना दूध बेचने प्रतापगढ़ जाते हैं। उसी बस से इलाके से दर्जन भर छात्राऐं भी विद्यालय जाती हैं। आरोप है कि यह लोग छात्राओं के साथ अक्सर छेड़खानी करते, जिसको लेकर कई बार विवाद भी हो चुका है।

इधर सिलोखर हनुमानगढी के लोगों ने तीन महीने से हनुमानगढी बाजार से दूध का लदान बन्द करा दिया। इसके चलते दोनों समुदायों में तना-तनी का माहौल चला आ रहा है। इधर कुछ दिनों से दूसरे समुदाय के लोग फिर से हनुमानगढ़ी से बस पर दूध लादना सुरु कर दिया। इसी बात को लेकर बीती शाम सिलोखर गांव के आर्मी के जवान अजय सिंह से भैंसना के एक व्यक्ति से विवाद हो गया। इस विवाद की जानकारी भैंसना के लोगों को हुई तो दर्जनों लोग लाठी डंडे व असलहे से लैस होकर सिलोखर हनुमानगढ़ी गांव पहुंचें और वहां दो भाइयों को मार-पीटकर घायल कर दिया। आरोप है कि कई राउंड हवाई फायरिंग हुई। जानकारी होने पर पहुंची सांगीपुर पुलिस ने घायलों को इलाज के लिए भेजा दिया। ठस् मामले में पुलिस ने तीन हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया।

इसी बात को लेकर मंगलवार को सुबह सिलोखर गांव के कुछ लोगों ने भैंसना गांव के ट्रैक्टर को उस समय आग के हवाले कर दिया जब वह सिलोखर गांव के बगल से जुताई के लिये ले जाया जा रहा था। ट्रैक्टर फुंकने भैंसना गांव के एक ही समुदाय के लोग बड़ी संख्या में सबक सिखाने सिलोखर गांव की ओर चल पड़े। इसकी जानकारी जब दूसरे समुदाय के लोगों को हुई तो कई गांव के लोग जुट गए और लाइी डण्डों से लैस होकर मुकाबला करने निकल पड़े। दोनों की भिड़न्त होती इसके पहले ही भैंसना गांव लोगों ने भैंसना गांव के पास ही शाहबरी के दो लोगों पर हमला बोल दिया। उनकी बाइक क्षतिग्रस्त कर दी।

घटना की जानकारी होने पर सांगीपुर पुलिस के साथ कई थानों की फोर्स मौके पर पहुंच गयी जिससे बड़ी घटना टल गयी। मौके पर डीएम एसपी प्रतापगढ़ और दो जिले की सीमा का मामला होने के कारण अमेठी के डीएम एसपी भी पुलिस बल के साथ पहुंच गये। गांव मे पीएसी भी मुस्तैद है। डीआईजी व कमिश्नर फैजाबाद ने भी मौके पर पहुंच कर घटना का जायजा लिया। फिलहाल क्षेत्र में माहौल असामान्य है। यदी समय पर प्रशासन सख्त रुख न अख्तियार करता तो साम्प्रदायिक बवाल होना तय था। अमेठी के भाजपा नेता आशीष शुक्ल व कांग्रेस नेता डा संजय सिंह के पुत्र अनंत विक्रम सिंह ने भी मौके पर पहुंच कर घटना का जायजा लिया।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ?भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???