Patrika Hindi News

क्यों जरूरी है घर का बीमा किन चीजों का रखें ख्याल

Updated: IST Property Fair
प्राकृतिक आपदा या चोरी होने पर आर्थिक नुकसान से बीमा आपको सुरक्षा दिलाता है

जयपुर। कार और बाइक का इन्श्योरेंस तो हर कोई कराता है, लेकिन जब घर के इन्श्योरेंस की बारी आती है तो ज्यादातर लोग इसे जरूरी नहीं समझते। जबकि घर हमारा सबसे बड़ा आर्थिक निवेश होता है। घर का इंश्योरेंस कराकर हम अपने घर और सामान की सुरक्षा सुनिश्चित करते हैं। प्राकृतिक आपदा या चोरी होने पर आर्थिक नुकसान से आपको सुरक्षा मिलती है। जानें होम इन्श्योरेंस के क्या हैं फायदे...

होम इंश्योरेंस में क्या होता है कवर

बीमा कंपनियां घर और अंदर के सामान के लिए होम इंश्योरेंस पॉलिसी ऑफर करती हैं। पॉलिसी में बिल्डिंग के स्ट्रक्चर और घर के सामान आते हैं। बिल्डिंग का स्ट्रक्चर डैमेज होने पर बीमा कंपनी मरम्मत का खर्च वहन करती है। इसी तरह आग, विस्फोट, बिजली, चोरी, बाढ़, तूफान, चक्रवात, आतंकवाद, दंगे, हड़ताल, भूस्खलन, रिसाव, भूकंप और अन्य प्राकृतिक आपदाओं से होने वाली क्षति की भरपाई भी पॉलिसी के तहत होती है। हालांकि कई चीजें पॉलिसी लेने वाले पर निर्भर करती है कि वह इंश्योरेंस में क्या कवर करवाना चाहता है। बीमा कंपनियां 50 साल से अधिक की प्रॉपर्टी का इन्श्योरेंस नहीं करती है। अगर आप किराए के मकान में रह रहे हैं तो आपको सामान का बीमा जरूर करवाना चाहिए।

इस तरह तय होता है प्रीमियम

प्रॉपर्टी की कंस्ट्रक्शन क्वालिटी और बिल्टअप एरिया (प्रति वर्ग फुट) को आधार बनाकर बीमा कंपनी इंश्योरेंस कवर की राशि और प्रीमियम तय करती है। होम इंश्योरेंस का प्रीमियम तय करने में प्रॉपर्टी के साइज, टाइप ऑफ कंस्ट्रक्शन, भौगोलिक लोकेशन, प्रॉपर्टी के अंदर के सामान आदि भी अहम होते हैं। बीमा कंपनी बाढ़ या भूकंप से अधिक प्रभावित इलाकों में पॉलिसी होल्डर्स से अधिक प्रीमियम लेती है।

होम इंश्योरेंस देने वाली कंपनियां

आईसीआईसीआई-लोंबार्ड, बजाज एलियांज, जनरल इंश्योरेंस कंपनी, इफको-टोक्यो, नेशनल इंश्योरेंस कंपनी, न्यू इंडिया इंश्योरेंस, ओरिएंटल इंश्योरेंस जैसी कंपनियां होम इंश्योरेंस पॉलिसी देती हैं।

कम प्रीमियम के लिए अपनाएं ये तरीके

कम प्रीमियम चुकाने के लिए हमेशा लंबे समय के लिए पॉलिसी लेनी चाहिए। इससे प्रीमियम में डिस्काउंट मिलता है और रीन्यू कराने की समस्या भी नहीं आती है। कई साल के लिए इंश्योरेंस लेने पर प्रीमियम में 50 फीसदी तक की छूट मिलती है। कम प्रीमियम भुगतान के लिए आप पॉलिसी की ऑनलाइन जानकारी ले सकते हैं।

होम इंश्योरेंस में क्या नहीं होता कवर

युद्ध में हुए नुकसान, जानबूझ कर तोड़-फोड़, प्रॉपर्टी के आसपास जमीन खिसकने, प्रॉपर्टी डाक्यूमेंट का नुकसान, प्राचीन संग्रहणीय वस्तुओं के नुकसान आदि का कवर होम इंश्योरेंस के तहत नहीं होता है। गृह युद्ध, न्यूक्लीयर हथियारों, घरेलू नौकर से नुकसान जैसे मामलों में भी बीमा कंपनी भरपाई नहीं करती है।

कंपनी के चुनाव में इनका रखें ख्याल

बीमा कंपनी से होम इंश्योरेंस लेने से पहले क्लेम सेटलमेंट के स्टेटस की जानकारी जरूर लें। इससे आपको कंपनी की पॉलिसी की जानकारी मिल जाएगी और क्लेम लेने में कोई परेशानी का सामना नहीं करना होगा। कभी भी कम प्रीमियम को आधार बनाकर पॉलिसी लेने का फैसला नहीं करें। इससे आप कई फायदों से वंचित रह जाएंगे।

यह भी पढ़े :
अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???