Patrika Hindi News

पिता हैं क्रेन आपरेटर और बेटा बना दसवीं बोर्ड का टॉपर, आईएएस बनने की चाह में कर रहा जी-तोड़ मेहनत

Updated: IST Father is the crane operator and son making the to
आईएएस बनने की इच्छा संजोए एक क्रेन ऑपरेटर के बेटे ने दसवीं के परिणाम में टॉप टेन में पांचवे स्थान पर अपना नाम दर्ज कराते हुए जिले का नाम गौरवान्वित किया है। शुक्रवार को माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा दसवीं के परिणाम घोषित कर दिए हैं। इसके प्राविण्य सूची में जिले से इकलौता नाम शामिल है।

रायगढ़. आईएएस बनने की इच्छा संजोए एक क्रेन ऑपरेटर के बेटे ने दसवीं के परिणाम में टॉप टेन में पांचवे स्थान पर अपना नाम दर्ज कराते हुए जिले का नाम गौरवान्वित किया है। शुक्रवार को माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा दसवीं के परिणाम घोषित कर दिए हैं। इसके प्राविण्य सूची में जिले से इकलौता नाम शामिल है।

जिंदल आदर्श हायर सेकेण्डरी स्कूल किरोड़ीमल नगर में पढऩे वाले सूरज कुमार प्रजापति का नाम जिले से है। सूरज ने 97 प्रतिशत अंक हासिल करते हुए जिले का नाम रोशन किया है। सूरज से चर्चा करने पर उसने बताया कि वह बचपन से ही आईएएस बनना चाहता है। परिजनों को अपने सपनों के बारे में बताने के बाद मेहनत करने की नसीहत दी गई थी जिसे अमल करते हुए 10 वीं में काफी तैयारी किया था। सूरज ने यह भी बताया कि उसको उम्मीद थी कि वह काफी अच्छे अंक हासिल करेगा। अब सूरज 11 वीं में गणित विषय लेकर आगे की पढ़ाई करना चाह रहा है। ताकि आगे इसी क्षेत्र में बढ़ते हुए अपने सपने को साकार कर सके। सूरज के पिता जगदीश प्रजापति और मां प्रमिला प्रजापति ने बताया कि सूरज अधिकांश तौर पर रात में पढ़ाई करता था। कई बार तो यह स्थिति बनती थी कि देर रात जब उठते थे तो वह पढ़ते रहता था तो हम बोलते भी थे कि अब बंद कर दे सुबह पढ़ लेना।

शिक्षकों ने भी सराहा था- सूरज के परिजनों की माने तो स्कूल में जब टेस्ट के बाद ओपन हाउस होता था तो शिक्षक उसके परिणाम को देखकर काफी सराहते थे। शिक्षकों ने यह भी कहा था कि थोड़ा सा और ध्यान दो काफी अच्छा परिणाम आएगा।

सुबह के समय भटकता है ध्यान- सूरज ने बताया कि सुबह के समय पढ़ाई करने में कई तरह की बातें आती है जिससे ध्यान भटकता है इसलिए वह रात 9 बजे के बाद देर रात तक इसके बाद वह सुबह 4 बजे से उठकर पढ़ाई करता था।

अपने विवाह के सपने को भारत मैट्रीमोनी पर साकार करे।- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन करे!
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???