Patrika Hindi News

लोगों ने लगाया आरोप, रसूख देखकर हो रही है अब शहर के नालों की सफाई

Updated: IST The people charged allegations about the cleaning
बारिश से पहले निगम के द्वारा शुरू की गई नाले की सफाई आज तक पूरी नहीं हो सकी है। स्थिति यह है कि कई नालों की सफाई अब तक शुरू भी नहीं की गई है।

रायगढ़. बारिश से पहले निगम के द्वारा शुरू की गई नाले की सफाई आज तक पूरी नहीं हो सकी है। स्थिति यह है कि कई नालों की सफाई अब तक शुरू भी नहीं की गई है।

इसी तरह का एक नाला ढिमरापुर क्षेत्र का है। यहां के नाले की सफाई अब तक शुरू नहीं की जा सकी है। लोगों का कहना है कि जब यहां नाले की सफाई की बात कही जाती है तो कम कर्मचारी होने का हवाला दिया जाता है।

वहीं सिद्धि विनायक कालोनी में हर तीसरे दिन निगम के कर्मचारी पहुंच रहे हैं और सफाई कर रहे हैं। वहीं यह कहा जा रहा है कि यहां के नाले में अभी दो दिन और सफाई शुरू नहीं की जा सकती। ऐसे में तेज बारिश होने पर इस क्षेत्र में जल भराव की आशंका से भी इंकार नहीं किया जा सकता।

नगर निगम के द्वारा हर साल बारिश से पूर्व नालों की सफाई कराई जाती है। ताकि बारिश के दिनों में जल भराव की स्थिति निर्मित नहीं हो। इस साल भी निगम के द्वारा अप्रैल के अंतिम पखवाड़े में नालों की सफाई शुरू की गई। खास बात यह है शहरी क्षेत्र में करीब 52 नाले हैं।

इन नालों की सफाई निगम के द्वारा 20 अतिरिक्त कर्मचारियों के द्वारा सफाई कराए जाने की बात कही जा रही है, लेकिन अब तक ढिमरापुर क्षेत्र के कांदाजोर नाला की सफाई शुरू नहीं हो सकी।

इस नाला पर गौर करे तो यह नाला कांदाजोर गांव से निकलता है और शहर के ढिमरापुर से वार्ड क्रमांक 6 में प्रवेश करता है। वहीं ढिमरापुर से यह नाला अशोक विहार कालोनी, आर्शीवादपुरम कालोनी व प्यासा मैदान होते हुए केवड़ाबाड़ी नाला में मिलता है।

यहां से उक्त नाले का पानी केलो नदी में जाता है। खास बात यह है कि पूरी अप्रैल में शुरू हुई सफाई और आधा से ज्यादा जून पार हो गया, लेकिन अब तक यहां की सफाई शुरू नहीं हो सकी। वहीं निगम के अधिकारियों का कहना है कि उक्त नाला की सफाई के लिए अभी दो दिन और लगेंगे। इसके बाद ही नाला की सफाई शुरू हो सकेगी।

पिछले साल झेल चुके हैं परेशानी-

खास बात यह है कि पिछले साल की बारिश में उक्त नाला के किनारे बने मकानों में पानी घुस गया था। वहीं लोगों काफी नुकसान भी झेलना पड़ा था।

इधर अब तक सफाई शुरू नहीं होने से लोग भयभीत है। यह आशंका व्यक्त की जा रही है कि तेज बारिश होने पर इस बार भी उन्हें परेशानी झेलनी होगी। यह स्थिति सफाई होने के बाद भी थी। हालांकि पिछले साल सफाई के नाम पर खानापूर्ति किए जाने की बात कही जा रही है।

सफाई के नाम पर भेदभाव-

नगर निगम के द्वारा किए जा रहे नाला सफाई में भेदभाव का आरोप भी लगाया जा रहा है कि वार्ड के लोगों का कहना है कि सिद्धि विनायक कालोनी में हर तीसरे दिन निगम के

अतिरिक्त कर्मचारियों के द्वारा सफाई कराई जा रही है, लेकिन निगम के अतिरिक्त कर्मचारियों को ढिमरापुर नाला की सफाई करने नहीं भेजा रहा है। लोगों का आरोप था कि निगम वाले सफाई में भी इलाका देखकर भेदभाव कर रहे हैं।

यह भी पढ़े :
विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मॅट्रिमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !
LIVE CRICKET SCORE
Patrika.com

लेटेस्ट ख़बरें ई-मेल पर पाने के लिए सब्सक्राइब करें

Dus ka Dum
Ad Block is Banned Click here to refresh the page

???? ??????? ?? ??? ???? ????? ???